Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Oct 2023 · 1 min read

#justareminderdrarunkumarshastri

#justareminderdrarunkumarshastri
गति के प्रारूप क्या हैं – सदगति – अरे न बाबा ना तो अधोगति – क्या तुम नाराज हो , नहीं तो फिर मानते क्यूँ नहीं
गति का अर्थ है – एक स्थान से दूसरे स्थान तक जाने में आप कितना समय लेते हो उस समीकरण के अनुसार गणितीय विधा से जो मात्रा आए – omg अब समझा

117 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
जब किसान के बेटे को गोबर में बदबू आने लग जाए
जब किसान के बेटे को गोबर में बदबू आने लग जाए
शेखर सिंह
Today i am thinker
Today i am thinker
Ms.Ankit Halke jha
The OCD Psychologist
The OCD Psychologist
मोहित शर्मा ज़हन
ना धर्म पर ना जात पर,
ना धर्म पर ना जात पर,
Gouri tiwari
एक चाय तो पी जाओ
एक चाय तो पी जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दो दिन
दो दिन
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
परी
परी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम मेरी
तुम मेरी
हिमांशु Kulshrestha
हो गया तुझसे, मुझे प्यार खुदा जाने क्यों।
हो गया तुझसे, मुझे प्यार खुदा जाने क्यों।
सत्य कुमार प्रेमी
संस्कार संयुक्त परिवार के
संस्कार संयुक्त परिवार के
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
गज़रा
गज़रा
Alok Saxena
मोहब्बत
मोहब्बत
Shriyansh Gupta
मन की इच्छा मन पहचाने
मन की इच्छा मन पहचाने
Suryakant Dwivedi
2786. *पूर्णिका*
2786. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
करते प्रियजन जब विदा ,भर-भर आता नीर (कुंडलिया)*
करते प्रियजन जब विदा ,भर-भर आता नीर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कुछ चूहे थे मस्त बडे
कुछ चूहे थे मस्त बडे
Vindhya Prakash Mishra
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गीत गाऊ
गीत गाऊ
Kushal Patel
" पाती जो है प्रीत की "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
#सन्डे_इज_फण्डे
#सन्डे_इज_फण्डे
*Author प्रणय प्रभात*
संसार चलाएंगी बेटियां
संसार चलाएंगी बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
राजाराम मोहन राॅय
राजाराम मोहन राॅय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
होते वो जो हमारे पास ,
होते वो जो हमारे पास ,
श्याम सिंह बिष्ट
तुम्हीं तुम हो.......!
तुम्हीं तुम हो.......!
Awadhesh Kumar Singh
भोर सुहानी हो गई, खिले जा रहे फूल।
भोर सुहानी हो गई, खिले जा रहे फूल।
surenderpal vaidya
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
Ajay Kumar Vimal
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
ruby kumari
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...