Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2024 · 1 min read

Ishq – e – Ludo with barcelona Girl

अपने दिल की दीवार पर तेरा हम नाम लिख आए है।
तू मिली जो मुझे मेरे होठ खिल आए है।
हुई कॉमफन लूडो पर इक चहेती नज़नीना से मुलाकात।
खेलकर उनसे हम हारकर भी जीत आए है।
वो है रहने वाली आफताब ए गुलसिता बार्सिलोना की।
मेरे धड़कनों की आवाज बाबू सोना की।
आंखो से उतरकर हम उनके दिल में गुफ्तगू करने लगे।
अब तो मन ही नही करता उनसे नजरे हटाने की।
है चाहत पूरा उनके दिल में उतर जाने की।
दिल ने महसूस किया की वो इक हसीना है।
उनके जैसा इस धरा पर कोई कही न है।
हुए मशगूल आरजे आनंद उनके हर अदाओं पर।
दिल ले गई एक लड़की ।
लूडो पर बार्सिलोना गर्ल अपने फिजाओं पर।
आपके हुस्न की इबादत करते है।
खुदा है मेहरबान की हम आपसे बाते करते है।
कर दूं तुझपे सजदा मैं खुद को जानिसार पर।
RJ Anand Prajapati

Language: Hindi
69 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*भगवान के नाम पर*
*भगवान के नाम पर*
Dushyant Kumar
भविष्य..
भविष्य..
Dr. Mulla Adam Ali
उसकी सुनाई हर कविता
उसकी सुनाई हर कविता
हिमांशु Kulshrestha
काम-क्रोध-मद-मोह को, कब त्यागे इंसान
काम-क्रोध-मद-मोह को, कब त्यागे इंसान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जुदा नहीं होना
जुदा नहीं होना
Dr fauzia Naseem shad
मुस्कराओ तो फूलों की तरह
मुस्कराओ तो फूलों की तरह
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
दो अक्षर में कैसे बतला दूँ
दो अक्षर में कैसे बतला दूँ
Harminder Kaur
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
आईना हो सामने फिर चेहरा छुपाऊं कैसे,
आईना हो सामने फिर चेहरा छुपाऊं कैसे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2266.
2266.
Dr.Khedu Bharti
सोई गहरी नींदों में
सोई गहरी नींदों में
Anju ( Ojhal )
सत्याधार का अवसान
सत्याधार का अवसान
Shyam Sundar Subramanian
जब पीड़ा से मन फटता है
जब पीड़ा से मन फटता है
पूर्वार्थ
🙅ऑफर🙅
🙅ऑफर🙅
*Author प्रणय प्रभात*
देव्यपराधक्षमापन स्तोत्रम
देव्यपराधक्षमापन स्तोत्रम
पंकज प्रियम
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
स्त्रियाँ
स्त्रियाँ
Shweta Soni
ध्रुव तारा
ध्रुव तारा
Bodhisatva kastooriya
जलाओ प्यार के दीपक खिलाओ फूल चाहत के
जलाओ प्यार के दीपक खिलाओ फूल चाहत के
आर.एस. 'प्रीतम'
"कुछ लोग हैं"
Dr. Kishan tandon kranti
असफलता
असफलता
Neeraj Agarwal
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
सुरसा-सी नित बढ़ रही, लालच-वृत्ति दुरंत।
सुरसा-सी नित बढ़ रही, लालच-वृत्ति दुरंत।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कोरोना काल मौत का द्वार
कोरोना काल मौत का द्वार
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
आए हैं रामजी
आए हैं रामजी
SURYA PRAKASH SHARMA
मैं पीपल का पेड़
मैं पीपल का पेड़
VINOD CHAUHAN
कट्टर ईमानदार हूं
कट्टर ईमानदार हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नम आँखे
नम आँखे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Loading...