Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2023 · 1 min read

. inRaaton Ko Bhi Gajab Ka Pyar Ho Gaya Hai Mujhse

. inRaaton Ko Bhi Gajab Ka Pyar Ho Gaya Hai Mujhse
Jeet Ki Pyali dekar Nind ki Thali chhin Li
Andheri Raat Mein Jab Akele Meri najron Mein najre Dali
Aisa Pyar Hai Hamara ki Sabke so jaane ke bad bhi ghanton baten Karti rahti Hain ye raate Humse

162 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सफ़ारी सूट
सफ़ारी सूट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हमारे जैसा कोई और....
हमारे जैसा कोई और....
sangeeta beniwal
वैराग्य का भी अपना हीं मजा है,
वैराग्य का भी अपना हीं मजा है,
Manisha Manjari
शीत ऋतु
शीत ऋतु
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
नींद की कुंजी / MUSAFIR BAITHA
नींद की कुंजी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बचपन का प्रेम
बचपन का प्रेम
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
वर्तमान भी छूट रहा
वर्तमान भी छूट रहा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*बिजली एक ज्यों चमकी (मुक्तक)*
*बिजली एक ज्यों चमकी (मुक्तक)*
Ravi Prakash
हमरे  गउवाँ के अजबे कहानी, जुबानी आज हमरा सुनी।
हमरे गउवाँ के अजबे कहानी, जुबानी आज हमरा सुनी।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मुक्त्तक
मुक्त्तक
Rajesh vyas
एक थी कोयल
एक थी कोयल
Satish Srijan
अर्थहीन
अर्थहीन
Shyam Sundar Subramanian
जय सियाराम जय-जय राधेश्याम …
जय सियाराम जय-जय राधेश्याम …
Mahesh Ojha
💐अज्ञात के प्रति-22💐
💐अज्ञात के प्रति-22💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुछ
कुछ
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
'नटखट नटवर'(डमरू घनाक्षरी)
'नटखट नटवर'(डमरू घनाक्षरी)
Godambari Negi
अज्ञानता निर्धनता का मूल
अज्ञानता निर्धनता का मूल
लक्ष्मी सिंह
हम देखते ही रह गये
हम देखते ही रह गये
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
कीमतों ने छुआ आसमान
कीमतों ने छुआ आसमान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कोई मोहताज
कोई मोहताज
Dr fauzia Naseem shad
होली रो यो है त्यौहार
होली रो यो है त्यौहार
gurudeenverma198
महिला दिवस दोहा नवमी
महिला दिवस दोहा नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कड़वी बात~
कड़वी बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
"ब्रेजा संग पंजाब"
Dr Meenu Poonia
वक्त बदलता रहता है
वक्त बदलता रहता है
Anamika Singh
मुक़द्दर क्या है अपना फर्क नहीं पड़ता,
मुक़द्दर क्या है अपना फर्क नहीं पड़ता,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
✍️
✍️"सूरज"और "पिता"✍️
'अशांत' शेखर
क्या अब भी तुम न बोलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी
Rekha Drolia
Loading...