Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2017 · 1 min read

II मोहब्बत का दिया…..I

मोहब्बत का दिया, यार अब तो जलाओ l
अब मेरे होसले को, मत और आजमाओll
********************************
बहुत कुछ है यहां खोया ,नफरतों में हमनेl
हम वतन और हमसे वतन ,उनको बताओll
*********************************
आज परेशान हम, ज्यादा पाने की धुन में l
जिसको जितना मिला ,उसमें ही मुस्कुराओll
*********************************
जिंदगी जो है यारों, एक मुश्किल डगर है l
रूठ कर और इसको, न मुश्किल बनाओ ll
*******************************
मैं समुंदर में भी, पार लग जाऊंगा l
बन पतवार बस ,तुम मेरे साथ आओ ll
*****************************
दीप भी जलेंगे ,होगी रोशनी यहां l
हो सके तो वहां ,तुम भी जगमगावो ll
*****************************
संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेशl

Language: Hindi
442 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ लक्ष्मी
माँ लक्ष्मी
Bodhisatva kastooriya
ट्यूशन उद्योग
ट्यूशन उद्योग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रहो कृष्ण की ओट
रहो कृष्ण की ओट
Satish Srijan
मेरी सच्चाई को बकवास समझती है
मेरी सच्चाई को बकवास समझती है
Keshav kishor Kumar
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
Rj Anand Prajapati
सूरज ढल रहा हैं।
सूरज ढल रहा हैं।
Neeraj Agarwal
बड़ा मुश्किल है ये लम्हे,पल और दिन गुजारना
बड़ा मुश्किल है ये लम्हे,पल और दिन गुजारना
'अशांत' शेखर
*लेटलतीफ: दस दोहे*
*लेटलतीफ: दस दोहे*
Ravi Prakash
रेत समुद्र ही रेगिस्तान है और सही राजस्थान यही है।
रेत समुद्र ही रेगिस्तान है और सही राजस्थान यही है।
प्रेमदास वसु सुरेखा
घबरा के छोड़ दें
घबरा के छोड़ दें
Dr fauzia Naseem shad
सच्ची दोस्ती -
सच्ची दोस्ती -
Raju Gajbhiye
मायूस ज़िंदगी
मायूस ज़िंदगी
Ram Babu Mandal
हत्या
हत्या
Kshma Urmila
सावन बीत गया
सावन बीत गया
Suryakant Dwivedi
Ek din ap ke pas har ek
Ek din ap ke pas har ek
Vandana maurya
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
शिक्षक हमारे देश के
शिक्षक हमारे देश के
Bhaurao Mahant
न मैंने अबतक बुद्धत्व प्राप्त किया है
न मैंने अबतक बुद्धत्व प्राप्त किया है
ruby kumari
* चली रे चली *
* चली रे चली *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नीलेश
नीलेश
Dhriti Mishra
जी रहे है तिरे खयालों में
जी रहे है तिरे खयालों में
Rashmi Ranjan
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
श्रीहर्ष आचार्य
बस अणु भर मैं
बस अणु भर मैं
Atul "Krishn"
खेत -खलिहान
खेत -खलिहान
नाथ सोनांचली
#विषय --रक्षा बंधन
#विषय --रक्षा बंधन
rekha mohan
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Sampada
"एक शोर है"
Lohit Tamta
धड़कन से धड़कन मिली,
धड़कन से धड़कन मिली,
sushil sarna
"गांव की मिट्टी और पगडंडी"
Ekta chitrangini
Loading...