Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2017 · 1 min read

II पेड़ों का साया II

कुछ तो कदर करो ,दुनिया में लाने वालों की l
बहुत पछताएगा जब ,सिर पर ना साया होगा ll

आसान नहीं होता ,दुनिया का सफर यारों l
भूखे रहकर भी, बच्चों को खिलाया होगा ll

साथ पेड़ों का है जरूरी ,इन को बचाना होगा l
जिस्म जल जाएंगे जब ,सर पर ना साया होगा ll

कल हम न होंगे ,फिर भी हमारे होंगे l
कुछ तो विरासत में, हम ने बनाया होगा ll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश

Language: Hindi
Tag: गीत
424 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बोझ लफ़्ज़ों के दिल पे होते हैं
बोझ लफ़्ज़ों के दिल पे होते हैं
Dr fauzia Naseem shad
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हम मुहब्बत कर रहे थे
हम मुहब्बत कर रहे थे
shabina. Naaz
अब प्यार का मौसम न रहा
अब प्यार का मौसम न रहा
Shekhar Chandra Mitra
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हमारी समस्या का समाधान केवल हमारे पास हैl
हमारी समस्या का समाधान केवल हमारे पास हैl
Ranjeet kumar patre
💐Prodigy Love-18💐
💐Prodigy Love-18💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*सांच को आंच नहीं*
*सांच को आंच नहीं*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
The unknown road.
The unknown road.
Manisha Manjari
परेशान देख भी चुपचाप रह लेती है
परेशान देख भी चुपचाप रह लेती है
Keshav kishor Kumar
*जिंदगी*
*जिंदगी*
Harminder Kaur
वसंत के दोहे।
वसंत के दोहे।
Anil Mishra Prahari
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
प्रीतम श्रावस्तवी
मुक्तक7
मुक्तक7
Dr Archana Gupta
कभी जलाए गए और कभी खुद हीं जले
कभी जलाए गए और कभी खुद हीं जले
Shweta Soni
अब मैं बस रुकना चाहता हूं।
अब मैं बस रुकना चाहता हूं।
PRATIK JANGID
लहू जिगर से बहा फिर
लहू जिगर से बहा फिर
Shivkumar Bilagrami
जय अयोध्या धाम की
जय अयोध्या धाम की
Arvind trivedi
उत्तम देह
उत्तम देह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*समारोह को पंखुड़ियॉं, बिखरी क्षणभर महकाती हैं (हिंदी गजल/ ग
*समारोह को पंखुड़ियॉं, बिखरी क्षणभर महकाती हैं (हिंदी गजल/ ग
Ravi Prakash
2643.पूर्णिका
2643.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दिवाकर उग गया देखो,नवल आकाश है हिंदी।
दिवाकर उग गया देखो,नवल आकाश है हिंदी।
Neelam Sharma
'सवालात' ग़ज़ल
'सवालात' ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,
अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,
Dhriti Mishra
सोशल मीडिया, हिंदी साहित्य और हाशिया विमर्श / MUSAFIR BAITHA
सोशल मीडिया, हिंदी साहित्य और हाशिया विमर्श / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
■ समझदार टाइप के नासमझ।
■ समझदार टाइप के नासमझ।
*Author प्रणय प्रभात*
चले न कोई साथ जब,
चले न कोई साथ जब,
sushil sarna
Meri Jung Talwar se nahin hai
Meri Jung Talwar se nahin hai
Ankita Patel
"सफलता"
Dr. Kishan tandon kranti
ओ माँ मेरी लाज रखो
ओ माँ मेरी लाज रखो
Basant Bhagawan Roy
Loading...