Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

I was happy

I was happy
When I was a child
I could do whatever I like

I could go out
To play among friends
To have a fun with them

I could go out
To climb the trees
To feel the gust of breeze

I could go out
To fly that paper kite
To enjoy that cloudy hight

I could go out
To drench in the rain
To run making children’s train

Now I’m Sad
Nothing makes me glad
As I’m busy earning the bread

1 Like · 39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
तेरी चेहरा जब याद आती है तो मन ही मन मैं मुस्कुराने लगता।🥀🌹
तेरी चेहरा जब याद आती है तो मन ही मन मैं मुस्कुराने लगता।🥀🌹
जय लगन कुमार हैप्पी
आशा
आशा
Sanjay ' शून्य'
अधूरे सवाल
अधूरे सवाल
Shyam Sundar Subramanian
ए दिल मत घबरा
ए दिल मत घबरा
Harminder Kaur
रूपमाला (मदन ) छंद विधान सउदाहरण
रूपमाला (मदन ) छंद विधान सउदाहरण
Subhash Singhai
प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।
प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हार से भी जीत जाना सीख ले।
हार से भी जीत जाना सीख ले।
सत्य कुमार प्रेमी
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
Vijay kumar Pandey
अजीब सी बेताबी है
अजीब सी बेताबी है
शेखर सिंह
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
manjula chauhan
*
*"ओ पथिक"*
Shashi kala vyas
मुर्दे भी मोहित हुए
मुर्दे भी मोहित हुए
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मृत्युभोज
मृत्युभोज
अशोक कुमार ढोरिया
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शीत .....
शीत .....
sushil sarna
मेरे जज़्बात कुछ अलग हैं,
मेरे जज़्बात कुछ अलग हैं,
Sunil Maheshwari
पधारो मेरे प्रदेश तुम, मेरे राजस्थान में
पधारो मेरे प्रदेश तुम, मेरे राजस्थान में
gurudeenverma198
बोलना खटकता है ! दुनिया को खामोश हुआ, जबसे, कोई शिकवा नहीं ।
बोलना खटकता है ! दुनिया को खामोश हुआ, जबसे, कोई शिकवा नहीं ।
पूर्वार्थ
कोई ऐसा बोलता है की दिल में उतर जाता है
कोई ऐसा बोलता है की दिल में उतर जाता है
कवि दीपक बवेजा
नमी आंखे....
नमी आंखे....
Naushaba Suriya
आत्म अवलोकन कविता
आत्म अवलोकन कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
राख के ढेर की गर्मी
राख के ढेर की गर्मी
Atul "Krishn"
अनुभूति
अनुभूति
Shweta Soni
कौशल्या नंदन
कौशल्या नंदन
Sonam Puneet Dubey
डूबता सुरज हूँ मैं
डूबता सुरज हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
उम्मींदें तेरी हमसे
उम्मींदें तेरी हमसे
Dr fauzia Naseem shad
రామయ్య రామయ్య
రామయ్య రామయ్య
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
जीवन में,
जीवन में,
नेताम आर सी
नारी निन्दा की पात्र नहीं, वह तो नर की निर्मात्री है
नारी निन्दा की पात्र नहीं, वह तो नर की निर्मात्री है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हिंदी साहित्य में लुप्त होती जनचेतना
हिंदी साहित्य में लुप्त होती जनचेतना
Dr.Archannaa Mishraa
Loading...