Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Dec 2023 · 1 min read

I want to collaborate with my lost pen,

I want to collaborate with my lost pen,
I want to recreate my heart again.
I want to being a disarmed personality ,
I want to believe in almighty .
I want to detach my birth right ,
I want to loose my every fight .
I want to avoke my all sight ,
I want to sleep again all night .
I want to heal the depth of my injury,
I want to feel a hurtless surgery.
I want to collaborate with my lost pen,
I want to recreate my heart again.

1 Like · 2 Comments · 142 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुरु की पूछो ना जात!
गुरु की पूछो ना जात!
जय लगन कुमार हैप्पी
तुमसे मैं एक बात कहूँ
तुमसे मैं एक बात कहूँ
gurudeenverma198
बहती नदी का करिश्मा देखो,
बहती नदी का करिश्मा देखो,
Buddha Prakash
हम अपनी ज़ात में
हम अपनी ज़ात में
Dr fauzia Naseem shad
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
पूर्वार्थ
*कमाल की बातें*
*कमाल की बातें*
आकांक्षा राय
■ 5 साल में 1 बार पधारो बस।।
■ 5 साल में 1 बार पधारो बस।।
*Author प्रणय प्रभात*
स्त्री न देवी है, न दासी है
स्त्री न देवी है, न दासी है
Manju Singh
हम छि मिथिला के बासी
हम छि मिथिला के बासी
Ram Babu Mandal
तुकबन्दी,
तुकबन्दी,
Satish Srijan
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
आउट करें, गेट आउट करें
आउट करें, गेट आउट करें
Dr MusafiR BaithA
आयी ऋतु बसंत की
आयी ऋतु बसंत की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
भोर होने से पहले .....
भोर होने से पहले .....
sushil sarna
मतदान
मतदान
Kanchan Khanna
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
R J Meditation Centre
R J Meditation Centre
Ravikesh Jha
"अमर रहे गणतंत्र" (26 जनवरी 2024 पर विशेष)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
3114.*पूर्णिका*
3114.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका  आकार बदल  जाता ह
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका आकार बदल जाता ह
Jitendra kumar
💐प्रेम कौतुक-345💐
💐प्रेम कौतुक-345💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चलिए खूब कमाइए, जिनके बच्चे एक ( कुंडलिया )
चलिए खूब कमाइए, जिनके बच्चे एक ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
सिर्फ खुशी में आना तुम
सिर्फ खुशी में आना तुम
Jitendra Chhonkar
"तू है तो"
Dr. Kishan tandon kranti
कांटा
कांटा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
_सुलेखा.
महिला दिवस कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब
महिला दिवस कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब
Suryakant Dwivedi
रंगों  की  बरसात की होली
रंगों की बरसात की होली
Vijay kumar Pandey
Destiny
Destiny
Dhriti Mishra
हिम्मत कभी न हारिए
हिम्मत कभी न हारिए
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Loading...