Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 May 2022 · 1 min read

I love to vanish like that shooting star.

The darkness has again spread its wings,
Can’t even think which storm it will bring.
I am still waiting for you under that same shade,
Where you once held my hand and promises were made.
The birds have again started to sing that same love song,
Which had the power to distract me, and I have forgotten that for so long.
The waves are crashing at the shore,
As if it might break my heart brutally once more.
The fragrance is choking my breath,
How I’ve just forgotten that you have found your death.
But your love is still wrapping me in a warm hug,
And overpowering my senses like a deadly drug.
I wish not to meet you in any other birth,
For your toxic habit has done its highest with me on this earth.
Now I guess I am ready to be hit by that unknown storm,
And I would love to vanish like that shooting star that’s confirmed.

Language: English
Tag: Poem
1 Like · 643 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Manisha Manjari
दोस्त अब थकने लगे है
दोस्त अब थकने लगे है
पूर्वार्थ
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
..
"समय का मूल्य"
Yogendra Chaturwedi
वादा
वादा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना  मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
DrLakshman Jha Parimal
2373.पूर्णिका
2373.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हर रास्ता मुकम्मल हो जरूरी है क्या
हर रास्ता मुकम्मल हो जरूरी है क्या
कवि दीपक बवेजा
मौत के डर से सहमी-सहमी
मौत के डर से सहमी-सहमी
VINOD CHAUHAN
निदा फाज़ली का एक शेर है
निदा फाज़ली का एक शेर है
Sonu sugandh
शरीफों में शराफ़त भी दिखाई हमने,
शरीफों में शराफ़त भी दिखाई हमने,
Ravi Betulwala
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
विश्व कविता दिवस
विश्व कविता दिवस
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
"मेरी नज्मों में"
Dr. Kishan tandon kranti
आंखन तिमिर बढ़ा,
आंखन तिमिर बढ़ा,
Mahender Singh
बाल कविता: तितली
बाल कविता: तितली
Rajesh Kumar Arjun
उनको मेरा नमन है जो सरहद पर खड़े हैं।
उनको मेरा नमन है जो सरहद पर खड़े हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
🙅चुनावी चौपाल🙅
🙅चुनावी चौपाल🙅
*प्रणय प्रभात*
उन्होंने कहा बात न किया कीजिए मुझसे
उन्होंने कहा बात न किया कीजिए मुझसे
विकास शुक्ल
*पुस्तक*
*पुस्तक*
Dr. Priya Gupta
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
Radhakishan R. Mundhra
क्या अब भी तुम न बोलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी
Rekha Drolia
काजल की महीन रेखा
काजल की महीन रेखा
Awadhesh Singh
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
रोला छंद :-
रोला छंद :-
sushil sarna
मतदान करो मतदान करो
मतदान करो मतदान करो
इंजी. संजय श्रीवास्तव
खाक पाकिस्तान!
खाक पाकिस्तान!
Saransh Singh 'Priyam'
मैं मगर अपनी जिंदगी को, ऐसे जीता रहा
मैं मगर अपनी जिंदगी को, ऐसे जीता रहा
gurudeenverma198
"कुण्डलिया"
surenderpal vaidya
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
Phool gufran
Loading...