Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2024 · 1 min read

I KNOW …

I know you are trying to be far from me ,
I know you are trying to back out .
I know your are trying to end your love,
I know you are trying to shout.

I know you are trying to ignore me ,
I know you are trying to do attraction less .
I know you have thought that we’ll be seperated ,
that’s why you are trying to do less stress.

but i know that you’re in family pressure ,
otherwise you also want only me.
but if you really want me ,
then now you must be as a tree .

The tree which doesn’t break down in any storm
and always stands in all weather .
so don’t see the world before the love ,
and let’s come together .

— SURYAA

1 Like · 24 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आत्मविश्वास
आत्मविश्वास
Dipak Kumar "Girja"
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
gurudeenverma198
नज़र
नज़र
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
"कारोबार"
Dr. Kishan tandon kranti
लिखें जो खत तुझे कोई कभी भी तुम नहीं पढ़ते !
लिखें जो खत तुझे कोई कभी भी तुम नहीं पढ़ते !
DrLakshman Jha Parimal
"" *इबादत ए पत्थर* ""
सुनीलानंद महंत
दोहा छंद विधान
दोहा छंद विधान
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
* मन बसेगा नहीं *
* मन बसेगा नहीं *
surenderpal vaidya
********* कुछ पता नहीं *******
********* कुछ पता नहीं *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कविता -दो जून
कविता -दो जून
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शांतिवार्ता
शांतिवार्ता
Prakash Chandra
"होली है आई रे"
Rahul Singh
सच का सौदा
सच का सौदा
अरशद रसूल बदायूंनी
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
Rj Anand Prajapati
Dear me
Dear me
पूर्वार्थ
वसुधा में होगी जब हरियाली।
वसुधा में होगी जब हरियाली।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बदचलन (हिंदी उपन्यास)
बदचलन (हिंदी उपन्यास)
Shwet Kumar Sinha
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
Ravi Prakash
🚩अमर कोंच-इतिहास
🚩अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वक़्त वो सबसे ही जुदा होगा
वक़्त वो सबसे ही जुदा होगा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुक्तक
मुक्तक
Mahender Singh
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
।।  अपनी ही कीमत।।
।। अपनी ही कीमत।।
Madhu Mundhra Mull
प्रिये का जन्म दिन
प्रिये का जन्म दिन
विजय कुमार अग्रवाल
फिल्म तो सती-प्रथा,
फिल्म तो सती-प्रथा,
शेखर सिंह
बे खुदी में सवाल करते हो
बे खुदी में सवाल करते हो
SHAMA PARVEEN
हंसते ज़ख्म
हंसते ज़ख्म
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
Lakhan Yadav
3281.*पूर्णिका*
3281.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कसौटी जिंदगी की
कसौटी जिंदगी की
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Loading...