Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2023 · 1 min read

I am not born,

I am not born,
to serve others
I am Born ,
to be served by others

110 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बैठा ड्योढ़ी साँझ की, सोच रहा आदित्य।
बैठा ड्योढ़ी साँझ की, सोच रहा आदित्य।
डॉ.सीमा अग्रवाल
चंद्रयान-थ्री
चंद्रयान-थ्री
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
घर बन रहा है
घर बन रहा है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
तेरी यादों की खुशबू
तेरी यादों की खुशबू
Ram Krishan Rastogi
*खाओ जामुन खुश रहो ,कुदरत का वरदान* (कुंडलिया)
*खाओ जामुन खुश रहो ,कुदरत का वरदान* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
"चांद पे तिरंगा"
राकेश चौरसिया
साहसी बच्चे
साहसी बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुस्ता लीजिये - दीपक नीलपदम्
सुस्ता लीजिये - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
राजर्षि अरुण की नई प्रकाशित पुस्तक
राजर्षि अरुण की नई प्रकाशित पुस्तक "धूप के उजाले में" पर एक नजर
Paras Nath Jha
आगाज़-ए-नववर्ष
आगाज़-ए-नववर्ष
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
बड्ड  मन करैत अछि  सब सँ संवाद करू ,
बड्ड मन करैत अछि सब सँ संवाद करू ,
DrLakshman Jha Parimal
वैसा न रहा
वैसा न रहा
Shriyansh Gupta
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
Phool gufran
धूम भी मच सकती है
धूम भी मच सकती है
gurudeenverma198
फितरत
फितरत
Mamta Rani
तमाम लोग
तमाम लोग "भोंपू" की तरह होते हैं साहब। हर वक़्त बजने का बहाना
*Author प्रणय प्रभात*
3196.*पूर्णिका*
3196.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
कवि दीपक बवेजा
गीत-14-15
गीत-14-15
Dr. Sunita Singh
तेरे प्यार के राहों के पथ में
तेरे प्यार के राहों के पथ में
singh kunwar sarvendra vikram
"नींद की तलाश"
Pushpraj Anant
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बारिश
बारिश
Mr.Aksharjeet
पंचवर्षीय योजनाएँ
पंचवर्षीय योजनाएँ
Dr. Kishan tandon kranti
काँटा ...
काँटा ...
sushil sarna
हम तूफ़ानों से खेलेंगे, चट्टानों से टकराएँगे।
हम तूफ़ानों से खेलेंगे, चट्टानों से टकराएँगे।
आर.एस. 'प्रीतम'
ज़िंदगी से शिकायत
ज़िंदगी से शिकायत
Dr fauzia Naseem shad
जानते वो भी हैं...!!
जानते वो भी हैं...!!
Kanchan Khanna
संवरना हमें भी आता है मगर,
संवरना हमें भी आता है मगर,
ओसमणी साहू 'ओश'
मलूल
मलूल
Satish Srijan
Loading...