Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2024 · 1 min read

How to keep a relationship:

How to keep a relationship:

Communicate.
Talk about good and bad.
Build trusts.
Be honest.
Be there for one another.
Make time for one another.
leave the past.
having arguments are normal.
You won’t always be happy.
appreciate flaws.
Become best friends.
Love each other unconditionally.

1 Like · 75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरी पनाह.....!
तेरी पनाह.....!
VEDANTA PATEL
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
Dr MusafiR BaithA
* मुस्कुराते हुए *
* मुस्कुराते हुए *
surenderpal vaidya
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
सत्य कुमार प्रेमी
सारे ही चेहरे कातिल है।
सारे ही चेहरे कातिल है।
Taj Mohammad
■एक शेर और■
■एक शेर और■
*प्रणय प्रभात*
*रामचरितमानस में अयोध्या कांड के तीन संस्कृत श्लोकों की दोहा
*रामचरितमानस में अयोध्या कांड के तीन संस्कृत श्लोकों की दोहा
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
सुधार आगे के लिए परिवेश
सुधार आगे के लिए परिवेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
यथार्थ
यथार्थ
Dr. Rajeev Jain
दिनकर तुम शांत हो
दिनकर तुम शांत हो
भरत कुमार सोलंकी
मिट्टी
मिट्टी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उदासियाँ  भरे स्याह, साये से घिर रही हूँ मैं
उदासियाँ भरे स्याह, साये से घिर रही हूँ मैं
_सुलेखा.
" शांत शालीन जैसलमेर "
Dr Meenu Poonia
नदी का किनारा ।
नदी का किनारा ।
Kuldeep mishra (KD)
Give it time. The reality is we all want to see results inst
Give it time. The reality is we all want to see results inst
पूर्वार्थ
मुझे उस पार उतर जाने की जल्दी ही कुछ ऐसी थी
मुझे उस पार उतर जाने की जल्दी ही कुछ ऐसी थी
शेखर सिंह
"जांबाज़"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेमचन्द के पात्र अब,
प्रेमचन्द के पात्र अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फूल सूखी डाल पर  खिलते  नहीं  कचनार  के
फूल सूखी डाल पर खिलते नहीं कचनार के
Anil Mishra Prahari
3342.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3342.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
इंसान क्यों ऐसे इतना जहरीला हो गया है
इंसान क्यों ऐसे इतना जहरीला हो गया है
gurudeenverma198
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
Sahil Ahmad
मोदी एक महानायक
मोदी एक महानायक
Sueta Dutt Chaudhary Fiji
तेरी यादों के सहारे वक़्त गुजर जाता है
तेरी यादों के सहारे वक़्त गुजर जाता है
VINOD CHAUHAN
मैथिली
मैथिली
Acharya Rama Nand Mandal
जिंदगी मौज है रवानी है खुद की कहानी है l
जिंदगी मौज है रवानी है खुद की कहानी है l
Ranjeet kumar patre
क्यूं हँसते है लोग दूसरे को असफल देखकर
क्यूं हँसते है लोग दूसरे को असफल देखकर
Praveen Sain
!! जलता हुआ चिराग़ हूँ !!
!! जलता हुआ चिराग़ हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
एक गिलहरी
एक गिलहरी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
Loading...