Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2022 · 1 min read

HE destinated me to do nothing but to wait.

The cloudless night is what I used to appreciate,
Even the moon laughed at the conversations we create.
The sound of windchimes lost its charm in front of your laughter,
I never wanted to think a thing, even this moment after.
The morning dew is resting on the petals as it will never go,
But it’s going to vanish soon, we all better know.
I eagerly wanted to stop you, but I said go and come back,
Because I will always become your strength, not an earthen crack.
Yes, time is running like the years, and I am feeling like riding on a rollercoaster,
The thoughts are trying to raise several fears, and nightmares are drawing dark color posters.
The heart is beating fast cause your life is always on stake,
And HE destinated me to do nothing but to wait.

2 Likes · 198 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
"कैसे सबको खाऊँ"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
(17) यह शब्दों का अनन्त, असीम महासागर !
(17) यह शब्दों का अनन्त, असीम महासागर !
Kishore Nigam
सोशल मीडिया, हिंदी साहित्य और हाशिया विमर्श / MUSAFIR BAITHA
सोशल मीडिया, हिंदी साहित्य और हाशिया विमर्श / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
अंधेरों में मुझे धकेलकर छीन ली रौशनी मेरी,
अंधेरों में मुझे धकेलकर छीन ली रौशनी मेरी,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
कुछ तो होता है ना, जब प्यार होता है
कुछ तो होता है ना, जब प्यार होता है
Anil chobisa
तज द्वेष
तज द्वेष
Neelam Sharma
*वोट हमें बनवाना है।*
*वोट हमें बनवाना है।*
Dushyant Kumar
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
छीना झपटी के इस युग में,अपना स्तर स्वयं निर्धारित करें और आत
छीना झपटी के इस युग में,अपना स्तर स्वयं निर्धारित करें और आत
विमला महरिया मौज
गांव की सैर
गांव की सैर
जगदीश लववंशी
घिन लागे उल्टी करे, ठीक न होवे पित्त
घिन लागे उल्टी करे, ठीक न होवे पित्त
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
अनिल कुमार
हर कदम प्यासा रहा...,
हर कदम प्यासा रहा...,
Priya princess panwar
!! मेरी विवशता !!
!! मेरी विवशता !!
Akash Yadav
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
शाह फैसल मुजफ्फराबादी
ये  दुनियाँ है  बाबुल का घर
ये दुनियाँ है बाबुल का घर
Sushmita Singh
ख़ुशी मिले कि मिले ग़म मुझे मलाल नहीं
ख़ुशी मिले कि मिले ग़म मुझे मलाल नहीं
Anis Shah
रदुतिया
रदुतिया
Nanki Patre
कोई इंसान अगर चेहरे से खूबसूरत है
कोई इंसान अगर चेहरे से खूबसूरत है
ruby kumari
सबसे नालायक बेटा
सबसे नालायक बेटा
आकांक्षा राय
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
Phool gufran
उपहास
उपहास
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
होता अगर पैसा पास हमारे
होता अगर पैसा पास हमारे
gurudeenverma198
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"किस बात का गुमान"
Ekta chitrangini
आज की राजनीति
आज की राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नमन सभी शिक्षकों को, शिक्षक दिवस की बधाई 🎉
नमन सभी शिक्षकों को, शिक्षक दिवस की बधाई 🎉
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐प्रेम कौतुक-371💐
💐प्रेम कौतुक-371💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम अभी ज़िंदगी को
हम अभी ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
Loading...