Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Apr 2023 · 1 min read

Fool’s Paradise

Get out of
Fool’s paradise!
Then perhaps
You may recognise!
The real face of
This system!
Which has made
Poisonous our life!
#Dalits #tribes #obc_sc_st
#women #politics #दलित
#Bahujan #Shudra #पिछड़ा
#SocialJustice #आदिवासी
#इंसाफ #हकमारी #अत्याचार

Language: English
Tag: Poem
298 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कौन किसकी कहानी सुनाता है
कौन किसकी कहानी सुनाता है
Manoj Mahato
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
*
*"मुस्कराने की वजह सिर्फ तुम्हीं हो"*
Shashi kala vyas
एहसास
एहसास
Er.Navaneet R Shandily
चिराग़ ए अलादीन
चिराग़ ए अलादीन
Sandeep Pande
किसान और जवान
किसान और जवान
Sandeep Kumar
कलयुगी दोहावली
कलयुगी दोहावली
Prakash Chandra
पढ़ो और पढ़ाओ
पढ़ो और पढ़ाओ
VINOD CHAUHAN
शक्ति स्वरूपा कन्या
शक्ति स्वरूपा कन्या
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
कड़वा है मगर सच है
कड़वा है मगर सच है
Adha Deshwal
ज़हन खामोश होकर भी नदारत करता रहता है।
ज़हन खामोश होकर भी नदारत करता रहता है।
Phool gufran
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
Rj Anand Prajapati
दीवाली
दीवाली
Mukesh Kumar Sonkar
World tobacco prohibition day
World tobacco prohibition day
Tushar Jagawat
"इमली"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
क्या करते हो?
क्या करते हो?
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
यादगार
यादगार
Bodhisatva kastooriya
आहिस्ता आहिस्ता मैं अपने दर्द मे घुलने लगा हूँ ।
आहिस्ता आहिस्ता मैं अपने दर्द मे घुलने लगा हूँ ।
Ashwini sharma
😊#The_One_man_army_of_my_life.…...
😊#The_One_man_army_of_my_life.…...
*Author प्रणय प्रभात*
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक सम
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक सम
Ravi Prakash
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बूढ़ी मां
बूढ़ी मां
Sûrëkhâ
* सुखम् दुखम *
* सुखम् दुखम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीवन का सच
जीवन का सच
Neeraj Agarwal
नारी सम्मान
नारी सम्मान
Sanjay ' शून्य'
सूरज का टुकड़ा...
सूरज का टुकड़ा...
Santosh Soni
मां की महत्ता
मां की महत्ता
Mangilal 713
धनतेरस के अवसर पर ,
धनतेरस के अवसर पर ,
Yogendra Chaturwedi
Loading...