Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2023 · 1 min read

#ekabodhbalak

#ekabodhbalak
हितोपदेश
आधी अधूरी बातें करने से संशय पैदा होता है और संशय से ग्लानि और ग्लानि से पीड़ा और पीड़ा से खिन्नता । अतः मन चोटिल होने लगता है तदुपरांत आत्मविश्वास कमजोर पड़ता है। जिस कारण कार्य की सिद्धि हनन योग जन्म लेकर सन्ताप होता है । ❤️😁❤️

242 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
लौह पुरुष - दीपक नीलपदम्
लौह पुरुष - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
गरीब हैं लापरवाह नहीं
गरीब हैं लापरवाह नहीं
Dr. Pradeep Kumar Sharma
◆धर्म-गीत
◆धर्म-गीत
*Author प्रणय प्रभात*
💐अज्ञात के प्रति-143💐
💐अज्ञात के प्रति-143💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुफलिसो और बेकशों की शान में मेरा ईमान बोलेगा।
मुफलिसो और बेकशों की शान में मेरा ईमान बोलेगा।
Phool gufran
गणेश चतुर्थी के शुभ पावन अवसर पर सभी को हार्दिक मंगल कामनाओं के साथ...
गणेश चतुर्थी के शुभ पावन अवसर पर सभी को हार्दिक मंगल कामनाओं के साथ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पत्नी
पत्नी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
उलझनें तेरे मैरे रिस्ते की हैं,
उलझनें तेरे मैरे रिस्ते की हैं,
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
" जब तुम्हें प्रेम हो जाएगा "
Aarti sirsat
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
नमन!
नमन!
Shriyansh Gupta
प्यास बुझाने का यही एक जरिया था
प्यास बुझाने का यही एक जरिया था
Anil Mishra Prahari
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
जंग के भरे मैदानों में शमशीर बदलती देखी हैं
जंग के भरे मैदानों में शमशीर बदलती देखी हैं
Ajad Mandori
"मन भी तो पंछी ठहरा"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पचीस साल पुराने स्वेटर के बारे में / MUSAFIR BAITHA
पचीस साल पुराने स्वेटर के बारे में / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
Atul "Krishn"
*पढ़ो जब भी कहानी, वीरता-साहस की ही पढ़ना (मुक्तक)*
*पढ़ो जब भी कहानी, वीरता-साहस की ही पढ़ना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आपको हम
आपको हम
Dr fauzia Naseem shad
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
_सुलेखा.
कर ले प्यार हरि से
कर ले प्यार हरि से
Satish Srijan
आदित्य(सूरज)!
आदित्य(सूरज)!
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
हर अदा उनकी सच्ची हुनर था बहुत।
हर अदा उनकी सच्ची हुनर था बहुत।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
I want to collaborate with my  lost pen,
I want to collaborate with my lost pen,
Sakshi Tripathi
गति साँसों की धीमी हुई, पर इंतज़ार की आस ना जाती है।
गति साँसों की धीमी हुई, पर इंतज़ार की आस ना जाती है।
Manisha Manjari
नारी तू नारायणी
नारी तू नारायणी
Dr.Pratibha Prakash
2787. *पूर्णिका*
2787. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कभी अपने लिए खुशियों के गुलदस्ते नहीं चुनते,
कभी अपने लिए खुशियों के गुलदस्ते नहीं चुनते,
Shweta Soni
Loading...