Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Dec 2023 · 1 min read

dr arun kumar shastri -you are mad for a job/ service – not

dr arun kumar shastri -you are mad for a job/ service – not bad . now if u start a business or a manufacturing unit is wow . how think about – in job / service you start with 20k and may end up 5/10/15 lac per annum . and your child will also start or struggle again for the same when he/she become eligible after 18 years of study. in business now think – you are doing good business and your earning is limitless. if your child do the same he / she need not to be that educated as for a job/ service. and he starts from there where you have left means a lot , he / she does not have to struggle again. think about hahahah

111 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
-आगे ही है बढ़ना
-आगे ही है बढ़ना
Seema gupta,Alwar
एक गलत निर्णय हमारे वजूद को
एक गलत निर्णय हमारे वजूद को
Anil Mishra Prahari
कुंडलिया - गौरैया
कुंडलिया - गौरैया
sushil sarna
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
Meera Thakur
मैकदे को जाता हूँ,
मैकदे को जाता हूँ,
Satish Srijan
रामराज्य
रामराज्य
Suraj Mehra
नौका को सिन्धु में उतारो
नौका को सिन्धु में उतारो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
2884.*पूर्णिका*
2884.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बीत जाता हैं
बीत जाता हैं
TARAN VERMA
कथनी और करनी में अंतर
कथनी और करनी में अंतर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"समय का महत्व"
Yogendra Chaturwedi
हैप्पी न्यू ईयर 2024
हैप्पी न्यू ईयर 2024
Shivkumar Bilagrami
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
योग का एक विधान
योग का एक विधान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तुम मोहब्बत में
तुम मोहब्बत में
Dr fauzia Naseem shad
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
Srishty Bansal
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
अनिल कुमार
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वक़्त के वो निशाँ है
वक़्त के वो निशाँ है
Atul "Krishn"
कहती है हमें अपनी कविताओं में तो उतार कर देख लो मेरा रूप यौव
कहती है हमें अपनी कविताओं में तो उतार कर देख लो मेरा रूप यौव
DrLakshman Jha Parimal
मैंने कभी भी अपने आप को इस भ्रम में नहीं रखा कि मेरी अनुपस्थ
मैंने कभी भी अपने आप को इस भ्रम में नहीं रखा कि मेरी अनुपस्थ
पूर्वार्थ
गीत
गीत
Shiva Awasthi
*ले औषधि संजीवनी, आए रातों-रात (कुछ दोहे)*
*ले औषधि संजीवनी, आए रातों-रात (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
अब तो आ जाओ सनम
अब तो आ जाओ सनम
Ram Krishan Rastogi
"सच और झूठ"
Dr. Kishan tandon kranti
समय आयेगा
समय आयेगा
नूरफातिमा खातून नूरी
एक अदद इंसान हूं
एक अदद इंसान हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तन प्रसन्न - व्यायाम से
तन प्रसन्न - व्यायाम से
Sanjay ' शून्य'
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
कवि रमेशराज
Loading...