Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2024 · 1 min read

Dr Arun Kumar shastri

Dr Arun Kumar shastri
अमूमन देखा गया है लोग अपने दिल की बात कहने को एक ऐसा मित्र ढूंढते हैं जो उनके दिल की बात दिल में ही रखे कहीं leak न करे। लेकिन ऐसा होता कम ही है। क्योंकि दिल से दिल की बात कहने या करने वाले लोग अधिकतर emotional होते हैं और उनकी बात यदि कोई leak कर दे तो उनका दिल बहुत दुखता है। आशा करता हूं आपके जीवन में ऐसा सुन्दर प्यारा दोस्त आपको मिला होगा। ईश्वर आपको खुश रखे। 💕💕

37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
हंसी आयी है लबों पर।
हंसी आयी है लबों पर।
Taj Mohammad
बगैर पैमाने के
बगैर पैमाने के
Satish Srijan
About your heart
About your heart
Bidyadhar Mantry
किसका चौकीदार?
किसका चौकीदार?
Shekhar Chandra Mitra
Armano me sajaya rakha jisse,
Armano me sajaya rakha jisse,
Sakshi Tripathi
Converse with the powers
Converse with the powers
Dhriti Mishra
---- विश्वगुरु ----
---- विश्वगुरु ----
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
उनको मेरा नमन है जो सरहद पर खड़े हैं।
उनको मेरा नमन है जो सरहद पर खड़े हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक दिवस में
एक दिवस में
Shweta Soni
मिली जिस काल आजादी, हुआ दिल चाक भारत का।
मिली जिस काल आजादी, हुआ दिल चाक भारत का।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हिन्दी दोहा -स्वागत 1-2
हिन्दी दोहा -स्वागत 1-2
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ये जो दुनियादारी समझाते फिरते हैं,
ये जो दुनियादारी समझाते फिरते हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
हे देवाधिदेव गजानन
हे देवाधिदेव गजानन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ मौलिकता का अपना मूल्य है। आयातित में क्या रखा है?
■ मौलिकता का अपना मूल्य है। आयातित में क्या रखा है?
*Author प्रणय प्रभात*
पापा के वह शब्द..
पापा के वह शब्द..
Harminder Kaur
समय
समय
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"" मामेकं शरणं व्रज ""
सुनीलानंद महंत
रुत चुनाव की आई 🙏
रुत चुनाव की आई 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
दिन गुजर जाता है ये रात ठहर जाती है
दिन गुजर जाता है ये रात ठहर जाती है
VINOD CHAUHAN
माँ का घर (नवगीत) मातृदिवस पर विशेष
माँ का घर (नवगीत) मातृदिवस पर विशेष
ईश्वर दयाल गोस्वामी
" हैं पलाश इठलाये "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
पिया की प्रतीक्षा में जगती रही
पिया की प्रतीक्षा में जगती रही
Ram Krishan Rastogi
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
"ऐसी कोई रात नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
जुनून
जुनून
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी बेटी बड़ी हो गई,
मेरी बेटी बड़ी हो गई,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*सदा गाते रहें हम लोग, वंदे मातरम् प्यारा (मुक्तक)*
*सदा गाते रहें हम लोग, वंदे मातरम् प्यारा (मुक्तक)*
Ravi Prakash
3180.*पूर्णिका*
3180.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...