Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2023 · 1 min read

Dr Arun Kumar shastri

Dr Arun Kumar shastri
🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️
तीन रिश्ते तीन वक्त
में ही पहचाने जा
सकते है…
पत्नी गरीबी मे,
दोस्त मुसीबत मे,
और औलाद
“बुढापे” मे… 🙏

🪷🪷🪷🪷🪷🪷🪷🪷🪷

260 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
युग परिवर्तन
युग परिवर्तन
आनन्द मिश्र
फ़ेसबुक पर पिता दिवस / मुसाफ़िर बैठा
फ़ेसबुक पर पिता दिवस / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
छत्तीसगढ़ के युवा नेता शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana
छत्तीसगढ़ के युवा नेता शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana
Bramhastra sahityapedia
समझदारी का न करे  ,
समझदारी का न करे ,
Pakhi Jain
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*छपवाऍं पुस्तक स्वयं, खर्चा करिए आप (कुंडलिया )*
*छपवाऍं पुस्तक स्वयं, खर्चा करिए आप (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
कोई हमको ढूँढ़ न पाए
कोई हमको ढूँढ़ न पाए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ख़ुद को यूं ही
ख़ुद को यूं ही
Dr fauzia Naseem shad
Lately, what weighs more to me is being understood. To be se
Lately, what weighs more to me is being understood. To be se
पूर्वार्थ
परम्परा को मत छोडो
परम्परा को मत छोडो
Dinesh Kumar Gangwar
मूर्ती माँ तू ममता की
मूर्ती माँ तू ममता की
Basant Bhagawan Roy
पावस में करती प्रकृति,
पावस में करती प्रकृति,
Mahendra Narayan
दीदार
दीदार
Vandna thakur
सो रहा हूं
सो रहा हूं
Dr. Meenakshi Sharma
बीती रात मेरे बैंक खाते में
बीती रात मेरे बैंक खाते में
*Author प्रणय प्रभात*
मदहोशी के इन अड्डो को आज जलाने निकला हूं
मदहोशी के इन अड्डो को आज जलाने निकला हूं
कवि दीपक बवेजा
"सुकून"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी नाव
मेरी नाव
Juhi Grover
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
फूल मोंगरा
फूल मोंगरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
Shashi kala vyas
यादों में
यादों में
Shweta Soni
किस तरह से गुज़र पाएँगी
किस तरह से गुज़र पाएँगी
हिमांशु Kulshrestha
मैं अपनी खूबसूरत दुनिया में
मैं अपनी खूबसूरत दुनिया में
ruby kumari
इन्सानियत
इन्सानियत
Bodhisatva kastooriya
माशूका नहीं बना सकते, तो कम से कम कोठे पर तो मत बिठाओ
माशूका नहीं बना सकते, तो कम से कम कोठे पर तो मत बिठाओ
Anand Kumar
3199.*पूर्णिका*
3199.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विचार और विचारधारा
विचार और विचारधारा
Shivkumar Bilagrami
बाल कविता: मदारी का खेल
बाल कविता: मदारी का खेल
Rajesh Kumar Arjun
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...