Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2024 · 1 min read

*Divine Bliss*

Trapped in my thoughts
brooding over the life’s mystery
What I gained, what I lost
What is woven in life’s tapestry.

Why there are worries
Why there is malice
Why people are maligned
Why can’t there be bliss.

Why people are aggrieved
Why there is no smile
Why closed in their own cocoon
Why there is no respite.

Why the sheen is lost
Where the charm is gone
Why the people fear
And so much hatred shown.

Why the trust is lost
Why the love is sour
Why they ditch their brethren
Why the anguish they pour.

Why the reverence is gone
To the farthest ways
Engulfed in the ego
Gone are the cheerful days.

The mind goes bewildered
Juggling up and down
Finding no solution
No ray of hope around.

Life will move on
Things will fall in place
Not to fret and worry
Find the inner solace.

Brooding over the turmoil
Will give life a miss
Have faith in the supreme
Enjoy His divine bliss.

Language: English
26 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Veneeta Narula
View all
You may also like:
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
*सुख-दुख में जीवन-भर साथी, कहलाते पति-पत्नी हैं【हिंदी गजल/गी
*सुख-दुख में जीवन-भर साथी, कहलाते पति-पत्नी हैं【हिंदी गजल/गी
Ravi Prakash
हार से डरता क्यों हैं।
हार से डरता क्यों हैं।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
सबला नारी
सबला नारी
आनन्द मिश्र
🙅आज का अनुभव🙅
🙅आज का अनुभव🙅
*प्रणय प्रभात*
खल साहित्यिकों का छलवृत्तांत / MUSAFIR BAITHA
खल साहित्यिकों का छलवृत्तांत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
समर्पण
समर्पण
Sanjay ' शून्य'
अजीब सी चुभन है दिल में
अजीब सी चुभन है दिल में
हिमांशु Kulshrestha
2428.पूर्णिका
2428.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
लिखते हैं कई बार
लिखते हैं कई बार
Shweta Soni
* खूबसूरत इस धरा को *
* खूबसूरत इस धरा को *
surenderpal vaidya
गम के बगैर
गम के बगैर
Swami Ganganiya
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
परोपकार
परोपकार
Neeraj Agarwal
जो लिख रहे हैं वो एक मज़बूत समाज दे सकते हैं और
जो लिख रहे हैं वो एक मज़बूत समाज दे सकते हैं और
Sonam Puneet Dubey
कोई अपना
कोई अपना
Dr fauzia Naseem shad
तेज़ाब का असर
तेज़ाब का असर
Atul "Krishn"
"बहुत दिनों से"
Dr. Kishan tandon kranti
1 *मेरे दिल की जुबां, मेरी कलम से*
1 *मेरे दिल की जुबां, मेरी कलम से*
Dr Shweta sood
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
52 बुद्धों का दिल
52 बुद्धों का दिल
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
अन्नदाता किसान
अन्नदाता किसान
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
" बंदिशें ज़ेल की "
Chunnu Lal Gupta
हकीकत
हकीकत
अखिलेश 'अखिल'
यदि आप सकारात्मक नजरिया रखते हैं और हमेशा अपना सर्वश्रेष्ठ प
यदि आप सकारात्मक नजरिया रखते हैं और हमेशा अपना सर्वश्रेष्ठ प
पूर्वार्थ
दो दोहे
दो दोहे
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
क्या मथुरा क्या काशी जब मन में हो उदासी ?
क्या मथुरा क्या काशी जब मन में हो उदासी ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सुप्रभातम
सुप्रभातम
Ravi Ghayal
सेवा कार्य
सेवा कार्य
Mukesh Kumar Rishi Verma
सब तो उधार का
सब तो उधार का
Jitendra kumar
Loading...