Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2023 · 1 min read

Darak me paida hoti meri kalpanaye,

Darak me paida hoti meri kalpanaye,
Aur dafan hoti meri khahishe.
Fana hone ki shifarish krti meri bahe
Siddat se khas mujhe, koi to chahe.
Rakh jiske kandhe par sir ro saku mai
Sun jiski bate , dubara muskura saku mai

346 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*श्री महेश राही जी (श्रद्धाँजलि/गीतिका)*
*श्री महेश राही जी (श्रद्धाँजलि/गीतिका)*
Ravi Prakash
द्रोण की विवशता
द्रोण की विवशता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रेम साधना श्रेष्ठ है,
प्रेम साधना श्रेष्ठ है,
Arvind trivedi
भय
भय
Shyam Sundar Subramanian
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
Paras Nath Jha
बे खुदी में सवाल करते हो
बे खुदी में सवाल करते हो
SHAMA PARVEEN
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
श्यामपट
श्यामपट
Dr. Kishan tandon kranti
लोग खुश होते हैं तब
लोग खुश होते हैं तब
gurudeenverma198
चाँद से वार्तालाप
चाँद से वार्तालाप
Dr MusafiR BaithA
दुकान वाली बुढ़िया
दुकान वाली बुढ़िया
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
पृथ्वीराज
पृथ्वीराज
Sandeep Pande
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
सृष्टि भी स्त्री है
सृष्टि भी स्त्री है
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नगमे अपने गाया कर
नगमे अपने गाया कर
Suryakant Dwivedi
चाँद
चाँद
Atul "Krishn"
कौन करता है आजकल जज्बाती इश्क,
कौन करता है आजकल जज्बाती इश्क,
डी. के. निवातिया
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
इस दुनिया में कोई भी मजबूर नहीं होता बस अपने आदतों से बाज़ आ
इस दुनिया में कोई भी मजबूर नहीं होता बस अपने आदतों से बाज़ आ
Rj Anand Prajapati
।। सुविचार ।।
।। सुविचार ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
विश्व कप-2023 फाइनल
विश्व कप-2023 फाइनल
दुष्यन्त 'बाबा'
राम सिया की होली देख, अवध में हनुमंत लगे हर्षांने।
राम सिया की होली देख, अवध में हनुमंत लगे हर्षांने।
राकेश चौरसिया
मेला
मेला
Dr.Priya Soni Khare
19, स्वतंत्रता दिवस
19, स्वतंत्रता दिवस
Dr Shweta sood
उधेड़बुन
उधेड़बुन
Dr. Mahesh Kumawat
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
Shyam Pandey
अच्छा लगता है
अच्छा लगता है
Harish Chandra Pande
भारत के बच्चे
भारत के बच्चे
Rajesh Tiwari
सांच कह्यां सुख होयस्यी,सांच समद को सीप।
सांच कह्यां सुख होयस्यी,सांच समद को सीप।
विमला महरिया मौज
ये कैसा घर है. . . .
ये कैसा घर है. . . .
sushil sarna
Loading...