Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

Charlie Chaplin truly said:

Charlie Chaplin truly said:
“I stay in rain so that no one can see me crying.”
And
I say:
“I wear blurry specs so that no one can see my teary eyes.”

98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विचार मंच भाग -7
विचार मंच भाग -7
डॉ० रोहित कौशिक
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
कार्तिक नितिन शर्मा
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*अमर रहे गणतंत्र हमारा, मॉं सरस्वती वर दो (देश भक्ति गीत/ सरस्वती वंदना)*
*अमर रहे गणतंत्र हमारा, मॉं सरस्वती वर दो (देश भक्ति गीत/ सरस्वती वंदना)*
Ravi Prakash
रमेशराज के नवगीत
रमेशराज के नवगीत
कवि रमेशराज
पिटूनिया
पिटूनिया
अनिल मिश्र
ग़ज़ल/नज़्म - एक वो दोस्त ही तो है जो हर जगहा याद आती है
ग़ज़ल/नज़्म - एक वो दोस्त ही तो है जो हर जगहा याद आती है
अनिल कुमार
"रिश्ते की बुनियाद"
Dr. Kishan tandon kranti
#आज_का_मुक्तक
#आज_का_मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
परख: जिस चेहरे पर मुस्कान है, सच्चा वही इंसान है!
परख: जिस चेहरे पर मुस्कान है, सच्चा वही इंसान है!
Rohit Gupta
*चाँद को भी क़बूल है*
*चाँद को भी क़बूल है*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जिंदगी है बहुत अनमोल
जिंदगी है बहुत अनमोल
gurudeenverma198
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
कवि दीपक बवेजा
* सुन्दर फूल *
* सुन्दर फूल *
surenderpal vaidya
जिंदगी मुझसे हिसाब मांगती है ,
जिंदगी मुझसे हिसाब मांगती है ,
Shyam Sundar Subramanian
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
वट सावित्री व्रत
वट सावित्री व्रत
Shashi kala vyas
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
National Energy Conservation Day
National Energy Conservation Day
Tushar Jagawat
ऋतु सुषमा बसंत
ऋतु सुषमा बसंत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कब मिलोगी मां.....
कब मिलोगी मां.....
Madhavi Srivastava
सवाल
सवाल
Manisha Manjari
वेदना में,हर्ष  में
वेदना में,हर्ष में
Shweta Soni
You know ,
You know ,
Sakshi Tripathi
निर्झरिणी है काव्य की, झर झर बहती जाय
निर्झरिणी है काव्य की, झर झर बहती जाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अनसुलझे किस्से
अनसुलझे किस्से
Mahender Singh
आज का बदलता माहौल
आज का बदलता माहौल
Naresh Sagar
प्रार्थना (मधुमालती छन्द)
प्रार्थना (मधुमालती छन्द)
नाथ सोनांचली
दोहे ( किसान के )
दोहे ( किसान के )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...