Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2023 · 1 min read

Banaras

मैं बैठा रहूँ बनारस की घाट पर।
तेरी यादों मे शाम हो जाए।
अगर तुम मिलो गंगा की तरह
तो कुछ बात हो जाए।

Language: Hindi
1 Like · 144 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खामोशी से तुझे आज भी चाहना
खामोशी से तुझे आज भी चाहना
Dr. Mulla Adam Ali
दूसरों के अधिकारों
दूसरों के अधिकारों
Dr.Rashmi Mishra
एक शख्स
एक शख्स
Pratibha Pandey
.....★.....
.....★.....
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
किताबें पूछती है
किताबें पूछती है
Surinder blackpen
3214.*पूर्णिका*
3214.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
झूठ न इतना बोलिए
झूठ न इतना बोलिए
Paras Nath Jha
एक चाय तो पी जाओ
एक चाय तो पी जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरा गुरूर है पिता
मेरा गुरूर है पिता
VINOD CHAUHAN
"सुरेंद्र शर्मा, मरे नहीं जिन्दा हैं"
Anand Kumar
निकला है हर कोई उस सफर-ऐ-जिंदगी पर,
निकला है हर कोई उस सफर-ऐ-जिंदगी पर,
डी. के. निवातिया
उजियारी ऋतुओं में भरती
उजियारी ऋतुओं में भरती
Rashmi Sanjay
#देकर_दगा_सभी_को_नित_खा_रहे_मलाई......!!
#देकर_दगा_सभी_को_नित_खा_रहे_मलाई......!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सुधार आगे के लिए परिवेश
सुधार आगे के लिए परिवेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कविता
कविता
Rambali Mishra
जिंदगी का सवाल आया है।
जिंदगी का सवाल आया है।
Dr fauzia Naseem shad
अंतर्राष्ट्रीय पाई दिवस पर....
अंतर्राष्ट्रीय पाई दिवस पर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
"किस बात का गुमान"
Ekta chitrangini
जिसने अस्मत बेचकर किस्मत बनाई हो,
जिसने अस्मत बेचकर किस्मत बनाई हो,
Sanjay ' शून्य'
साहिल पर खड़े खड़े हमने शाम कर दी।
साहिल पर खड़े खड़े हमने शाम कर दी।
Sahil Ahmad
नववर्ष
नववर्ष
Mukesh Kumar Sonkar
मन पतंगा उड़ता रहे, पैच कही लड़जाय।
मन पतंगा उड़ता रहे, पैच कही लड़जाय।
Anil chobisa
ऐसी फूलों की एक दुकान उस गली मैं खोलूंगा,
ऐसी फूलों की एक दुकान उस गली मैं खोलूंगा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
■ आज तक की गणना के अनुसार।
■ आज तक की गणना के अनुसार।
*Author प्रणय प्रभात*
*बोलो अंग्रेजी सदा, गाँठो रौब अपार (हास्य कुंडलिया)*
*बोलो अंग्रेजी सदा, गाँठो रौब अपार (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रंग तो प्रेम की परिभाषा है
रंग तो प्रेम की परिभाषा है
Dr. Man Mohan Krishna
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
Shutisha Rajput
*॥ ॐ नमः शिवाय ॥*
*॥ ॐ नमः शिवाय ॥*
Radhakishan R. Mundhra
प्यार का नाम मेरे दिल से मिटाया तूने।
प्यार का नाम मेरे दिल से मिटाया तूने।
Phool gufran
"सुनो भाई-बहनों"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...