Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Mar 2017 · 1 min read

!! होता है ऐसा भी !!

हाथ नहीं जुबान से भी
धक्का देकर गिरा देते हैं लोग
संभालना भी चाहे कोई अगर
सँभलने नहीं देते हैं लोग !!

फिसल जाती है उनकी जुबान
करनी नहीं गुरेज कुछ कहने में
समझते तो खूब हैं
पर कतराते नहीं कुछ कहने में !!

किस पर क्या असर होगा
किस की जिन्दगी में कल कैसा होगा
सता सता के जीना करते हैं मुहाल
एक अपनी शान की खातिर सता देते हैं लोग !!

रोते को हँसा दोगे तो क्या घिस जाएगा
बुरा वकत ऐसा उन पर भी कभी आएगा
गर मुस्कुराहट न दे सको किसी को कभी
कटु शब्द का उच्चारण भी तो न करे लोग !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
210 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
******* प्रेम और दोस्ती *******
******* प्रेम और दोस्ती *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
प्राण दंडक छंद
प्राण दंडक छंद
Sushila joshi
हाथ छुडाकर क्यों गया तू,मेरी खता बता
हाथ छुडाकर क्यों गया तू,मेरी खता बता
डा गजैसिह कर्दम
दुनिया मे नाम कमाने के लिए
दुनिया मे नाम कमाने के लिए
शेखर सिंह
तेरी धड़कन मेरे गीत
तेरी धड़कन मेरे गीत
Prakash Chandra
3545.💐 *पूर्णिका* 💐
3545.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
"बेटियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
" दोहरा चरित्र "
DrLakshman Jha Parimal
टूट जाता कमजोर, लड़ता है हिम्मतवाला
टूट जाता कमजोर, लड़ता है हिम्मतवाला
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
नाराज़गी भी हमने अपनो से जतायी
नाराज़गी भी हमने अपनो से जतायी
Ayushi Verma
*ये आती और जाती सांसें*
*ये आती और जाती सांसें*
sudhir kumar
रामभक्त शिव (108 दोहा छन्द)
रामभक्त शिव (108 दोहा छन्द)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
करवाचौथ
करवाचौथ
Mukesh Kumar Sonkar
प्रथम मिलन
प्रथम मिलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैं हूँ कौन ? मुझे बता दो🙏
मैं हूँ कौन ? मुझे बता दो🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आलस्य एक ऐसी सर्द हवा जो व्यक्ति के जीवन को कुछ पल के लिए रा
आलस्य एक ऐसी सर्द हवा जो व्यक्ति के जीवन को कुछ पल के लिए रा
Rj Anand Prajapati
तू नर नहीं नारायण है
तू नर नहीं नारायण है
Dr. Upasana Pandey
😊जाँच को आंच नहीं😊
😊जाँच को आंच नहीं😊
*प्रणय प्रभात*
हर शख्स माहिर है.
हर शख्स माहिर है.
Radhakishan R. Mundhra
आज का दिन
आज का दिन
Punam Pande
बसंत हो
बसंत हो
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
श्री राम एक मंत्र है श्री राम आज श्लोक हैं
श्री राम एक मंत्र है श्री राम आज श्लोक हैं
Shankar N aanjna
*असर*
*असर*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मातृत्व
मातृत्व
साहित्य गौरव
*साइकिल (कुंडलिया)*
*साइकिल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शहीदों को नमन
शहीदों को नमन
Dinesh Kumar Gangwar
नदी तट पर मैं आवारा....!
नदी तट पर मैं आवारा....!
VEDANTA PATEL
Loading...