Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2023 · 1 min read

Ajj bade din bad apse bat hui

Ajj bade din bad apse bat hui
Lgta hai sadiyo bad mulakat hui
Resham ke dhage sa rista tha hmara
Kbhi uljhan to kbhi motiya saji

1 Like · 249 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दूसरों के अधिकारों
दूसरों के अधिकारों
Dr.Rashmi Mishra
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
Bodhisatva kastooriya
भला दिखता मनुष्य
भला दिखता मनुष्य
Dr MusafiR BaithA
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
Sahil Ahmad
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
sushil sarna
हो जाओ तुम किसी और के ये हमें मंजूर नहीं है,
हो जाओ तुम किसी और के ये हमें मंजूर नहीं है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
दिव्य दर्शन है कान्हा तेरा
दिव्य दर्शन है कान्हा तेरा
Neelam Sharma
परिवर्तन
परिवर्तन
विनोद सिल्ला
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
मन की पीड़ा
मन की पीड़ा
पूर्वार्थ
*जातक या संसार मा*
*जातक या संसार मा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
होटल में......
होटल में......
A🇨🇭maanush
✍🏻 #ढीठ_की_शपथ
✍🏻 #ढीठ_की_शपथ
*Author प्रणय प्रभात*
सूरज का टुकड़ा...
सूरज का टुकड़ा...
Santosh Soni
"सपनों का सफर"
Pushpraj Anant
असर-ए-इश्क़ कुछ यूँ है सनम,
असर-ए-इश्क़ कुछ यूँ है सनम,
Amber Srivastava
कितना भी  कर लो जतन
कितना भी कर लो जतन
Paras Nath Jha
अनपढ़ व्यक्ति से ज़्यादा पढ़ा लिखा व्यक्ति जातिवाद करता है आ
अनपढ़ व्यक्ति से ज़्यादा पढ़ा लिखा व्यक्ति जातिवाद करता है आ
Anand Kumar
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
वो दिल लगाकर मौहब्बत में अकेला छोड़ गये ।
वो दिल लगाकर मौहब्बत में अकेला छोड़ गये ।
Phool gufran
मन डूब गया
मन डूब गया
Kshma Urmila
जो होता है आज ही होता है
जो होता है आज ही होता है
लक्ष्मी सिंह
भावनाओं का प्रबल होता मधुर आधार।
भावनाओं का प्रबल होता मधुर आधार।
surenderpal vaidya
दो रंगों में दिखती दुनिया
दो रंगों में दिखती दुनिया
कवि दीपक बवेजा
संविधान से, ये देश चलता,
संविधान से, ये देश चलता,
SPK Sachin Lodhi
*लोग क्या थे देखते ही, देखते क्या हो गए( हिंदी गजल/गीतिका
*लोग क्या थे देखते ही, देखते क्या हो गए( हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
"मूलमंत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
हम किसी के लिए कितना भी कुछ करले ना हमारे
हम किसी के लिए कितना भी कुछ करले ना हमारे
Shankar N aanjna
कमज़ोर सा एक लम्हा
कमज़ोर सा एक लम्हा
Surinder blackpen
2724.*पूर्णिका*
2724.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...