Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 12, 2017 · 1 min read

नमन साथियो। पहली कोशिश देखिये–

दिया दहलीज का क्यूं कांपता है
खुदाया दिल मेरा क्या बांचता है

नई तकनीक में कुछ खो गया है
खतों में कौन खुशबू डालता है

है फितरत में किसी के झूठ धोखा
अरे नादान उसे क्या आंकता है

एक और मतला

घड़ी है आखिरी क्या मांगता है
कफ़न की जेब में क्या जांचता है

पलक से बांध लेती ख्वाब तेरे
वफ़ाओं को क्यूं मेरी आंकता है

पलक से बांध लेती ख्वाब तेरे
वफ़ाओं को क्यूं मेरी आंकता है

पलक से बांध लेती ख्वाब तेरे
सरेआम तू उन्हें क्यूं बांटता है

गुज़रता काफ़िला जख्मों का दिल पे
हुआ छलनी उसे क्या सींचता है

दिया दहलीज का क्यूं कांपता है
ऐ रब दिल मेरा क्या बांचता है

अंतिम घड़ी है तू क्या मांगता है
कफ़न में न है जेब क्या जांचता है

1 Like · 230 Views
You may also like:
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Mamta Rani
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
कर्म का मर्म
Pooja Singh
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
आत्मनिर्भर
मनोज कर्ण
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
*"पिता"*
Shashi kala vyas
Loading...