Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 May 2016 · 1 min read

झूठ सच से क्या बोलता रहा

झूठ सच से क्या बोलता रहा
सच सच न रहा झूठ बन गया

नफरतों की आंधियों में प्यार
दुआ न हुआ टूटकर रह गया

लम्हा जो मासूम था रो पड़ा
बांध न पाया वक्त को खो गया

हम समय की गर्त में ढूंढते रहे
खारा पारी था उजाड़कर बह गया

Language: Hindi
1 Like · 519 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बचपन में थे सवा शेर जो
बचपन में थे सवा शेर जो
VINOD CHAUHAN
#बोध_काव्य-
#बोध_काव्य-
*Author प्रणय प्रभात*
राम राम राम
राम राम राम
Satyaveer vaishnav
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
💐प्रेम कौतुक-456💐
💐प्रेम कौतुक-456💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खिलाड़ी
खिलाड़ी
महेश कुमार (हरियाणवी)
बरसो रे मेघ (कजरी गीत)
बरसो रे मेघ (कजरी गीत)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मेरी सच्चाई को बकवास समझती है
मेरी सच्चाई को बकवास समझती है
Keshav kishor Kumar
ये एहतराम था मेरा कि उसकी महफ़िल में
ये एहतराम था मेरा कि उसकी महफ़िल में
Shweta Soni
मैं जान लेना चाहता हूँ
मैं जान लेना चाहता हूँ
Ajeet Malviya Lalit
आईना देख
आईना देख
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
रिश्ते दिलों के अक्सर इसीलिए
रिश्ते दिलों के अक्सर इसीलिए
Amit Pandey
टिक टिक टिक
टिक टिक टिक
Ghanshyam Poddar
दुख
दुख
Rekha Drolia
प्रो. दलजीत कुमार बने पर्यावरण के प्रहरी
प्रो. दलजीत कुमार बने पर्यावरण के प्रहरी
Nasib Sabharwal
You are the sanctuary of my soul.
You are the sanctuary of my soul.
Manisha Manjari
*ढूंढ लूँगा सखी*
*ढूंढ लूँगा सखी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीना सिखा दिया
जीना सिखा दिया
Basant Bhagawan Roy
छोटा सा परिवेश हमारा
छोटा सा परिवेश हमारा
Er.Navaneet R Shandily
सफर ऐसा की मंजिल का पता नहीं
सफर ऐसा की मंजिल का पता नहीं
Anil chobisa
वृक्ष बन जाओगे
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बेशक नहीं आता मुझे मागने का
बेशक नहीं आता मुझे मागने का
shabina. Naaz
दोस्ती एक पवित्र बंधन
दोस्ती एक पवित्र बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
" भूलने में उसे तो ज़माने लगे "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
"सन्देशा भेजने हैं मुझे"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा जीने का तरीका
मेरा जीने का तरीका
पूर्वार्थ
दीपावली २०२३ की हार्दिक शुभकामनाएं
दीपावली २०२३ की हार्दिक शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Tahrir kar rhe mere in choto ko ,
Tahrir kar rhe mere in choto ko ,
Sakshi Tripathi
Loading...