Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

3471🌷 *पूर्णिका* 🌷

3471🌷 पूर्णिका 🌷
कब से तुम मेरे हो गए
22 22 2212
कब से तुम मेरे हो गए ।
सच में तुम मेरे हो गए ।।
बदली अपनी यूं किस्मत भी ।
दुनिया तुम मेरे हो गए ।।
तुमसे अब कुछ कहना नहीं ।
सजना तुम मेरे हो गए ।।
नायाब यहाँ है जिंदगी ।
यारा तुम मेरे हो गए ।।
चाहत भी खेदू प्यार की।
जां से तुम मेरे हो गए ।।
…………✍ डॉ .खेदू भारती “सत्येश “
17-05-2024 शुक्रवार

20 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
परीक्षाएँ आ गईं........अब समय न बिगाड़ें
परीक्षाएँ आ गईं........अब समय न बिगाड़ें
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
#अमृत_पर्व
#अमृत_पर्व
*प्रणय प्रभात*
ଡାକ ଆଉ ଶୁଭୁ ନାହିଁ ହିଆ ଓ ଜଟିଆ
ଡାକ ଆଉ ଶୁଭୁ ନାହିଁ ହିଆ ଓ ଜଟିଆ
Bidyadhar Mantry
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – बाल्यकाल और नया पड़ाव – 02
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – बाल्यकाल और नया पड़ाव – 02
Sadhavi Sonarkar
नदी से जल सूखने मत देना, पेड़ से साख गिरने मत देना,
नदी से जल सूखने मत देना, पेड़ से साख गिरने मत देना,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
बहुत समय हो गया, मैं कल आया,
बहुत समय हो गया, मैं कल आया,
पूर्वार्थ
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
कृष्णकांत गुर्जर
मैं तो महज शमशान हूँ
मैं तो महज शमशान हूँ
VINOD CHAUHAN
दूरी जरूरी
दूरी जरूरी
Sanjay ' शून्य'
बोलो राम राम
बोलो राम राम
नेताम आर सी
जीवन की
जीवन की
Dr fauzia Naseem shad
वैशाख की धूप
वैशाख की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
पहाड़ के गांव,एक गांव से पलायन पर मेरे भाव ,
पहाड़ के गांव,एक गांव से पलायन पर मेरे भाव ,
Mohan Pandey
चिंगारी
चिंगारी
Dr. Mahesh Kumawat
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
Ajay Kumar Vimal
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
Neelam Sharma
"किस बात का गुमान"
Ekta chitrangini
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
Soniya Goswami
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
Dr. Narendra Valmiki
मायने रखता है
मायने रखता है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
प्रेम
प्रेम
Bodhisatva kastooriya
ऐसे जीना जिंदगी,
ऐसे जीना जिंदगी,
sushil sarna
नदिया साफ करेंगे (बाल कविता)
नदिया साफ करेंगे (बाल कविता)
Ravi Prakash
नींव की ईंट
नींव की ईंट
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
सत्य कुमार प्रेमी
देखो भालू आया
देखो भालू आया
अनिल "आदर्श"
मुस्कुराना चाहते हो
मुस्कुराना चाहते हो
surenderpal vaidya
"सूत्र-सिद्धान्त"
Dr. Kishan tandon kranti
ये जो तेरे बिना भी, तुझसे इश्क़ करने की आदत है।
ये जो तेरे बिना भी, तुझसे इश्क़ करने की आदत है।
Manisha Manjari
ज्ञानवान के दीप्त भाल पर
ज्ञानवान के दीप्त भाल पर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...