Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2024 · 1 min read

3412⚘ *पूर्णिका* ⚘

3412⚘ पूर्णिका
🌹 यूं सताने की आदत नहीं 🌹
212 22 2212
यूं सताने की आदत नहीं
दिल लगाने की आदत नहीं ।।
प्यार है बेहद जिससे हमें ।
कुछ छुपाने की आदत नहीं ।।
रंग बदले मौसम की तरह ।
आजमाने की आदत नहीं ।।
खूबसूरत है ये जिंदगी ।
धन कमाने की आदत नहीं ।।
नाम है खेदू शोहरत भी ।
फर्ज भुलाने की आदत नहीं ।।
……..✍ डॉ .खेदू भारती “सत्येश “
07-05-2024मंगलवार

51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संगदिल
संगदिल
Aman Sinha
कठिन समय आत्म विश्लेषण के लिए होता है,
कठिन समय आत्म विश्लेषण के लिए होता है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
2927.*पूर्णिका*
2927.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आदिशक्ति वन्दन
आदिशक्ति वन्दन
Mohan Pandey
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
Ram Krishan Rastogi
* मायने शहर के *
* मायने शहर के *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रेत समुद्र ही रेगिस्तान है और सही राजस्थान यही है।
रेत समुद्र ही रेगिस्तान है और सही राजस्थान यही है।
प्रेमदास वसु सुरेखा
नन्हें बच्चे को जब देखा
नन्हें बच्चे को जब देखा
Sushmita Singh
Pollution & Mental Health
Pollution & Mental Health
Tushar Jagawat
ये जो मेरी आँखों में
ये जो मेरी आँखों में
हिमांशु Kulshrestha
छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस
छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
चुभती है रौशनी
चुभती है रौशनी
Dr fauzia Naseem shad
लत / MUSAFIR BAITHA
लत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
संवरना हमें भी आता है मगर,
संवरना हमें भी आता है मगर,
ओसमणी साहू 'ओश'
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
सतरंगी इंद्रधनुष
सतरंगी इंद्रधनुष
Neeraj Agarwal
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
Kishore Nigam
"भँडारे मेँ मिलन" हास्य रचना
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Attraction
Attraction
Vedha Singh
Growth requires vulnerability.
Growth requires vulnerability.
पूर्वार्थ
पहले एक बात कही जाती थी
पहले एक बात कही जाती थी
DrLakshman Jha Parimal
"दुःख-सुख"
Dr. Kishan tandon kranti
सत्य को सूली
सत्य को सूली
Shekhar Chandra Mitra
■ जल्दी ही ■
■ जल्दी ही ■
*प्रणय प्रभात*
आकाश भर उजाला,मुट्ठी भरे सितारे
आकाश भर उजाला,मुट्ठी भरे सितारे
Shweta Soni
प्यार को शब्दों में ऊबारकर
प्यार को शब्दों में ऊबारकर
Rekha khichi
हे राम तुम्हारे आने से बन रही अयोध्या राजधानी।
हे राम तुम्हारे आने से बन रही अयोध्या राजधानी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
कवि रमेशराज
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
कार्तिक नितिन शर्मा
समझदार व्यक्ति जब संबंध निभाना बंद कर दे
समझदार व्यक्ति जब संबंध निभाना बंद कर दे
शेखर सिंह
Loading...