Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

3384⚘ *पूर्णिका* ⚘

3384⚘ पूर्णिका
🌹 सब मतलब के यार हुए 🌹
22 22 22 2
सब मतलब के यार हुए।
काम अच्छा बेकार हुए।।
बदले ना सोच पुरातन ।
सपनें बंठाधार हुए।।
त्याग नहीं ना कुछ समर्पण ।
किसके बेड़ापार हुए।।
दिन में यूं तारे देखे।
सपना कब साकार हुए ।।
साहिल खेदू दरियादिल।
समझो बस अवतार हुए।।
…….✍ डॉ .खेदू भारती “सत्येश “
03-05-2024शुक्रवार

61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं आत्मनिर्भर बनना चाहती हूं
मैं आत्मनिर्भर बनना चाहती हूं
Neeraj Agarwal
आप देखिएगा...
आप देखिएगा...
*प्रणय प्रभात*
कृष्ण कुमार अनंत
कृष्ण कुमार अनंत
Krishna Kumar ANANT
हम हिंदुओ का ही हदय
हम हिंदुओ का ही हदय
ओनिका सेतिया 'अनु '
हम क्यूं लिखें
हम क्यूं लिखें
Lovi Mishra
दिल धोखे में है
दिल धोखे में है
शेखर सिंह
“सत्य वचन”
“सत्य वचन”
Sandeep Kumar
3139.*पूर्णिका*
3139.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माँ
माँ
Arvina
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
Neelam Sharma
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
नारी
नारी
Dr Archana Gupta
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
satish rathore
धिक्कार
धिक्कार
Dr. Mulla Adam Ali
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
Manoj Mahato
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
* फूल खिले हैं *
* फूल खिले हैं *
surenderpal vaidya
इस दुनिया की सारी चीज भौतिक जीवन में केवल रुपए से जुड़ी ( कन
इस दुनिया की सारी चीज भौतिक जीवन में केवल रुपए से जुड़ी ( कन
Rj Anand Prajapati
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पिता, इन्टरनेट युग में
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
कभी ज्ञान को पा इंसान भी, बुद्ध भगवान हो जाता है।
कभी ज्ञान को पा इंसान भी, बुद्ध भगवान हो जाता है।
Monika Verma
एक ख़्वाब सी रही
एक ख़्वाब सी रही
Dr fauzia Naseem shad
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
Sukoon
******छोटी चिड़ियाँ*******
******छोटी चिड़ियाँ*******
Dr. Vaishali Verma
इश्क़ मत करना ...
इश्क़ मत करना ...
SURYA PRAKASH SHARMA
नहीं, अब ऐसा नहीं हो सकता
नहीं, अब ऐसा नहीं हो सकता
gurudeenverma198
एक जिद मन में पाल रखी है,कि अपना नाम बनाना है
एक जिद मन में पाल रखी है,कि अपना नाम बनाना है
पूर्वार्थ
आदमी बेकार होता जा रहा है
आदमी बेकार होता जा रहा है
हरवंश हृदय
दुनिया एक मेला है
दुनिया एक मेला है
VINOD CHAUHAN
Loading...