Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Apr 2024 · 1 min read

3277.*पूर्णिका*

3277.*पूर्णिका*
🌷 हरदम साथ रखता हैं कोई 🌷
22 212 22 22
हरदम साथ रखता है कोई ।
सर पे हाथ रखता है कोई।।
यूं हालात का मारा फिरते।
सुंदर बात रखता है कोई ।।
खुद की सोच से तरक्की करते।
खुशियांँ आज रखता है कोई ।।
दुनिया खूबसूरत है देखो ।
दे सौगात रखता है कोई।।
जीते शान से हम तो खेदू।
दिल में प्यार रखता है कोई ।।
……✍ डॉ. खेदू भारती “सत्येश”
15-04-2024सोमवार

39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेगुनाही एक गुनाह
बेगुनाही एक गुनाह
Shekhar Chandra Mitra
Dr arun kumar shastri
Dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हिंदी क्या है
हिंदी क्या है
Ravi Shukla
पहले कविता जीती है
पहले कविता जीती है
Niki pushkar
जो कायर अपनी गली में दुम हिलाने को राज़ी नहीं, वो खुले मैदान
जो कायर अपनी गली में दुम हिलाने को राज़ी नहीं, वो खुले मैदान
*प्रणय प्रभात*
Yaade tumhari satane lagi h
Yaade tumhari satane lagi h
Kumar lalit
तुम्हारी याद तो मेरे सिरहाने रखें हैं।
तुम्हारी याद तो मेरे सिरहाने रखें हैं।
Manoj Mahato
*मतदाता को चाहिए, दे सशक्त सरकार (कुंडलिया)*
*मतदाता को चाहिए, दे सशक्त सरकार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अच्छे समय का
अच्छे समय का
Santosh Shrivastava
आभार
आभार
Sanjay ' शून्य'
"समझाइश "
Yogendra Chaturwedi
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
अरशद रसूल बदायूंनी
हवा चल रही
हवा चल रही
surenderpal vaidya
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
कई बात अभी बाकी है
कई बात अभी बाकी है
Aman Sinha
सुंदरता के मायने
सुंदरता के मायने
Surya Barman
ग़ज़ल/नज़्म - मेरे महबूब के दीदार में बहार बहुत हैं
ग़ज़ल/नज़्म - मेरे महबूब के दीदार में बहार बहुत हैं
अनिल कुमार
"महत्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
चार दिन की जिंदगानी है यारों,
चार दिन की जिंदगानी है यारों,
Anamika Tiwari 'annpurna '
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
Phool gufran
हाइकु : रोहित वेमुला की ’बलिदान’ आत्महत्या पर / मुसाफ़िर बैठा
हाइकु : रोहित वेमुला की ’बलिदान’ आत्महत्या पर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
स्त्री ने कभी जीत चाही ही नही
स्त्री ने कभी जीत चाही ही नही
Aarti sirsat
बहुत देखें हैं..
बहुत देखें हैं..
Srishty Bansal
जब हम सोचते हैं कि हमने कुछ सार्थक किया है तो हमें खुद पर गर
जब हम सोचते हैं कि हमने कुछ सार्थक किया है तो हमें खुद पर गर
ललकार भारद्वाज
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2993.*पूर्णिका*
2993.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन से पलायन का
जीवन से पलायन का
Dr fauzia Naseem shad
कर्णधार
कर्णधार
Shyam Sundar Subramanian
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
मेरी बेटी मेरी सहेली
मेरी बेटी मेरी सहेली
लक्ष्मी सिंह
Loading...