Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2024 · 1 min read

3276.*पूर्णिका*

3276.*पूर्णिका*
🌷 साथ निभाने का नाटक करते हैं 🌷
22 22 22 22 22
साथ निभाने का नाटक करते हैं ।
अपने होने का नाटक करते हैं ।।
करके वादा जाते यूं मुकर यहाँ ।
प्यार जताने का नाटक करते हैं ।।
देखो जो दिखता है वो बिकता है।
काम बनाने का नाटक करते हैं ।।
जोंक बने बैठे चूसे खून जहाँ ।
रंग जमाने का नाटक करते हैं ।।
दिल छलनी कर जाते संभल खेदू।
जंग जिताने का नाटक करते हैं ।।
…….✍ डॉ. खेदू भारती “सत्येश”
14-04-2024रविवार

46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम फर्श पर गुमान करते,
हम फर्श पर गुमान करते,
Neeraj Agarwal
स्वप्न श्रृंगार
स्वप्न श्रृंगार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जीवन ज्योति
जीवन ज्योति
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"विस्तार"
Dr. Kishan tandon kranti
दान किसे
दान किसे
Sanjay ' शून्य'
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
Ranjeet kumar patre
कविता _ रंग बरसेंगे
कविता _ रंग बरसेंगे
Manu Vashistha
गूंजेगा नारा जय भीम का
गूंजेगा नारा जय भीम का
Shekhar Chandra Mitra
गांधी का अवतरण नहीं होता 
गांधी का अवतरण नहीं होता 
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सौंदर्य मां वसुधा की🙏
सौंदर्य मां वसुधा की🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्यार हमें
प्यार हमें
SHAMA PARVEEN
हर शख्स माहिर है.
हर शख्स माहिर है.
Radhakishan R. Mundhra
2566.पूर्णिका
2566.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Experience Life
Experience Life
Saransh Singh 'Priyam'
" मुशाफिर हूँ "
Pushpraj Anant
ना मुराद फरीदाबाद
ना मुराद फरीदाबाद
ओनिका सेतिया 'अनु '
"रंग भले ही स्याह हो" मेरी पंक्तियों का - अपने रंग तो तुम घोलते हो जब पढ़ते हो
Atul "Krishn"
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मीठे बोल
मीठे बोल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उड़ते हुए आँचल से दिखती हुई तेरी कमर को छुपाना चाहता हूं
उड़ते हुए आँचल से दिखती हुई तेरी कमर को छुपाना चाहता हूं
Vishal babu (vishu)
..
..
*प्रणय प्रभात*
*जन्मभूमि है रामलला की, त्रेता का नव काल है (मुक्तक)*
*जन्मभूमि है रामलला की, त्रेता का नव काल है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
"पिता दिवस: एक दिन का दिखावा, 364 दिन की शिकायतें"
Dr Mukesh 'Aseemit'
लोकोक्तियां (Proverbs)
लोकोक्तियां (Proverbs)
Indu Singh
आकांक्षा तारे टिमटिमाते ( उल्का )
आकांक्षा तारे टिमटिमाते ( उल्का )
goutam shaw
एक छोटा सा दर्द भी व्यक्ति के जीवन को रद्द कर सकता है एक साध
एक छोटा सा दर्द भी व्यक्ति के जीवन को रद्द कर सकता है एक साध
Rj Anand Prajapati
भारत को आखिर फूटबौळ क्यों बना दिया ? ना पड़ोसियों के गोल पोस
भारत को आखिर फूटबौळ क्यों बना दिया ? ना पड़ोसियों के गोल पोस
DrLakshman Jha Parimal
उज्जैन घटना
उज्जैन घटना
Rahul Singh
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
The_dk_poetry
Loading...