Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2024 · 1 min read

3242.*पूर्णिका*

3242.*पूर्णिका*
🌷 दिल की आवाज सुना करो🌷
22 22 2212
दिल की आवाज सुना करो ।
खुशियां भी आज चुना करो ।।
दुनिया कहती है क्या नहीं ।
यूं अपना ताज चुना करो ।।
चाहत हासिल मेहनत से ।
मंजिल जाँबाज चुना करो ।।
सच डर के आगे जीत है ।
यूं नव अंदाज चुना करो ।।
महके खेदू ये जिंदगी।
सुंदर सा काज चुना करो ।।
……….✍ डॉ. खेदू भारती “सत्येश”
07-04-2024रविवार

46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम
प्रेम
विमला महरिया मौज
दिल तो है बस नाम का ,सब-कुछ करे दिमाग।
दिल तो है बस नाम का ,सब-कुछ करे दिमाग।
Manoj Mahato
If I were the ocean,
If I were the ocean,
पूर्वार्थ
अच्छे बच्चे
अच्छे बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*पानी केरा बुदबुदा*
*पानी केरा बुदबुदा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यदि आपके पास नकारात्मक प्रकृति और प्रवृत्ति के लोग हैं तो उन
यदि आपके पास नकारात्मक प्रकृति और प्रवृत्ति के लोग हैं तो उन
Abhishek Kumar Singh
*चल रे साथी यू॰पी की सैर कर आयें*🍂
*चल रे साथी यू॰पी की सैर कर आयें*🍂
Dr. Vaishali Verma
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
Phool gufran
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
मैं ज्योति हूँ निरन्तर जलती रहूँगी...!!!!
मैं ज्योति हूँ निरन्तर जलती रहूँगी...!!!!
Jyoti Khari
छोटी सी प्रेम कहानी
छोटी सी प्रेम कहानी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*अद्‌भुत है अनमोल देह, इसकी कीमत पह‌चानो(गीत)*
*अद्‌भुत है अनमोल देह, इसकी कीमत पह‌चानो(गीत)*
Ravi Prakash
प्रिय विरह - २
प्रिय विरह - २
लक्ष्मी सिंह
"अपराध का ग्राफ"
Dr. Kishan tandon kranti
हाई रे मेरी तोंद (हास्य कविता)
हाई रे मेरी तोंद (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
तुमसे बेहद प्यार करता हूँ
तुमसे बेहद प्यार करता हूँ
हिमांशु Kulshrestha
23/119.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/119.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सागर
सागर
नूरफातिमा खातून नूरी
ज़िंदगी आईने के
ज़िंदगी आईने के
Dr fauzia Naseem shad
गंगा ....
गंगा ....
sushil sarna
जिंदगी और जीवन भी स्वतंत्र,
जिंदगी और जीवन भी स्वतंत्र,
Neeraj Agarwal
कविता : आँसू
कविता : आँसू
Sushila joshi
सुहागन का शव
सुहागन का शव
अनिल "आदर्श"
"आत्म-निर्भरता"
*प्रणय प्रभात*
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
Neelam Sharma
“ आहाँ नीक, जग नीक”
“ आहाँ नीक, जग नीक”
DrLakshman Jha Parimal
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
ruby kumari
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
श्रीहर्ष आचार्य
ये किस धर्म के लोग हैं
ये किस धर्म के लोग हैं
gurudeenverma198
काल का स्वरूप🙏
काल का स्वरूप🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...