Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2024 · 1 min read

3218.*पूर्णिका*

3218.*पूर्णिका*
🌷 दूध के धोये नहीं कोई🌷
212 2212 22
दूध के धोये नहीं कोई।
चैन से सोये नहीं कोई ।।
जिंदगी जीते यहाँ दुनिया।
हँस के रोये नहीं कोई।।
खेल तो सब खेलते देखो।
जीत के खोये नहीं कोई।।
प्यार से ही महकती बगियां।
ख्वाब संजोये नहीं कोई ।।
फसलें होती जमीं बंजर ।
बीज भी बोये नहीं कोई ।।
देख ले आलम यहाँ खेदू।
हाथ से धोये नहीं कोई ।।
……✍ डॉ. खेदू भारती “सत्येश”
01-04-2024सोमवार

48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#मैथिली_हाइकु
#मैथिली_हाइकु
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
Rj Anand Prajapati
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
#अद्भुत_प्रसंग
#अद्भुत_प्रसंग
*प्रणय प्रभात*
" क्यूँ "
Dr. Kishan tandon kranti
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
Sanjay ' शून्य'
हनुमान जी के गदा
हनुमान जी के गदा
Santosh kumar Miri
रुख़सारों की सुर्खियाँ,
रुख़सारों की सुर्खियाँ,
sushil sarna
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
gurudeenverma198
तुमसा तो कान्हा कोई
तुमसा तो कान्हा कोई
Harminder Kaur
श्याम-राधा घनाक्षरी
श्याम-राधा घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
!..............!
!..............!
शेखर सिंह
अर्थी चली कंगाल की
अर्थी चली कंगाल की
SATPAL CHAUHAN
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
इस गोशा-ए-दिल में आओ ना
इस गोशा-ए-दिल में आओ ना
Neelam Sharma
महान गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस की काव्यमय जीवनी (पुस्तक-समीक्षा)
महान गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस की काव्यमय जीवनी (पुस्तक-समीक्षा)
Ravi Prakash
वो छोड़ गया था जो
वो छोड़ गया था जो
Shweta Soni
अतीत कि आवाज
अतीत कि आवाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मन के घाव
मन के घाव
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
चिट्ठी   तेरे   नाम   की, पढ़ लेना सरकार।
चिट्ठी तेरे नाम की, पढ़ लेना सरकार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पथ प्रदर्शक पिता
पथ प्रदर्शक पिता
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मुझको कभी भी आजमाकर देख लेना
मुझको कभी भी आजमाकर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
*ट्रक का ज्ञान*
*ट्रक का ज्ञान*
Dr. Priya Gupta
2436.पूर्णिका
2436.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
विडम्बना और समझना
विडम्बना और समझना
Seema gupta,Alwar
मालपुआ
मालपुआ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
"Becoming a writer is a privilege, but being a reader is alw
Manisha Manjari
सकारात्मक सोच
सकारात्मक सोच
Dr fauzia Naseem shad
बदनाम
बदनाम
Neeraj Agarwal
Loading...