Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2024 · 1 min read

3176.*पूर्णिका*

3176.*पूर्णिका*
🌷 आदमी आज चालाक हो गए🌷
212 212 212 12
आदमी आज चालाक हो गए ।
बात ना कर कटी नाक हो गए ।।
हम समझते रहे जिंदगी यहाँ ।
दिल जले आग में खाक हो गए ।।
ख्वाब क्या क्या नहीं देखते सजन।
मतलबी यार के धाक हो गए ।।
नापते जो फिरे जग कहे जहाँ ।
नैन भी ताकते ताक हो गए ।।
हार भी जीत खेदू यहाँ बने।
बस इरादे जरा पाक हो गए ।।
…….✍ डॉ .खेदूभारती”सत्येश”
24-03-2024रविवार

52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Dr अरूण कुमार शास्त्री
Dr अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भ्रम जाल
भ्रम जाल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नया साल लेके आए
नया साल लेके आए
Dr fauzia Naseem shad
9) “जीवन एक सफ़र”
9) “जीवन एक सफ़र”
Sapna Arora
मिसाल
मिसाल
Kanchan Khanna
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
पागलपन
पागलपन
भरत कुमार सोलंकी
मेरे भाव मेरे भगवन
मेरे भाव मेरे भगवन
Dr.sima
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Dr Archana Gupta
हाइकु
हाइकु
Prakash Chandra
"जानलेवा"
Dr. Kishan tandon kranti
सबने सब कुछ लिख दिया, है जीवन बस खेल।
सबने सब कुछ लिख दिया, है जीवन बस खेल।
Suryakant Dwivedi
हारता वो है जो शिकायत
हारता वो है जो शिकायत
नेताम आर सी
लोग खुश होते हैं तब
लोग खुश होते हैं तब
gurudeenverma198
जय हो भारत देश हमारे
जय हो भारत देश हमारे
Mukta Rashmi
समय को पकड़ो मत,
समय को पकड़ो मत,
Vandna Thakur
कोहरे के दिन
कोहरे के दिन
Ghanshyam Poddar
बेवजह कदमों को चलाए है।
बेवजह कदमों को चलाए है।
Taj Mohammad
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
Paras Nath Jha
बेटियां! दोपहर की झपकी सी
बेटियां! दोपहर की झपकी सी
Manu Vashistha
छीना झपटी के इस युग में,अपना स्तर स्वयं निर्धारित करें और आत
छीना झपटी के इस युग में,अपना स्तर स्वयं निर्धारित करें और आत
विमला महरिया मौज
लिखने – पढ़ने का उद्देश्य/ musafir baitha
लिखने – पढ़ने का उद्देश्य/ musafir baitha
Dr MusafiR BaithA
23/114.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/114.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■दोहा■
■दोहा■
*Author प्रणय प्रभात*
सेहत या स्वाद
सेहत या स्वाद
विजय कुमार अग्रवाल
असफलता
असफलता
Neeraj Agarwal
यें सारे तजुर्बे, तालीम अब किस काम का
यें सारे तजुर्बे, तालीम अब किस काम का
Keshav kishor Kumar
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
मैं ऐसा नही चाहता
मैं ऐसा नही चाहता
Rohit yadav
गुरुदेव आपका अभिनन्दन
गुरुदेव आपका अभिनन्दन
Pooja Singh
Loading...