Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2024 · 1 min read

3163.*पूर्णिका*

3163.*पूर्णिका*
🌷 मीत बन जाते है🌷
2122 22
मीत बन जाते हैं ।
गीत बन जाते है ।।
खूबसूरत कुदरत ।
प्रीत बन जाते हैं ।।
सुन कहानी जग की ।
रीत बन जाते हैं ।।
सोच बदले सोचे।
जीत बन जाते हैं ।।
राह चलते खेदू।
भीत बन जाते हैं ।।
……….✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
22-03-2024शुक्रवार
(विश्व जल दिवस)

39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मिले
मिले
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
कहमुकरी (मुकरिया) छंद विधान (सउदाहरण)
कहमुकरी (मुकरिया) छंद विधान (सउदाहरण)
Subhash Singhai
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
शेखर सिंह
" हैं पलाश इठलाये "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
नर नारी
नर नारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सलामी दें तिरंगे को हमें ये जान से प्यारा
सलामी दें तिरंगे को हमें ये जान से प्यारा
आर.एस. 'प्रीतम'
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
ruby kumari
आशा
आशा
Sanjay ' शून्य'
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
Atul "Krishn"
बलात्कार
बलात्कार
rkchaudhary2012
वाह रे मेरे समाज
वाह रे मेरे समाज
Dr Manju Saini
Shabdo ko adhro par rakh ke dekh
Shabdo ko adhro par rakh ke dekh
Sakshi Tripathi
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
नींद
नींद
Kanchan Khanna
वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,
वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"सत्ता से संगठम में जाना"
*Author प्रणय प्रभात*
*समय*
*समय*
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खुशनसीबी
खुशनसीबी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अनुभूति
अनुभूति
Shweta Soni
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Tarun Singh Pawar
"औरत"
Dr. Kishan tandon kranti
विद्या देती है विनय, शुद्ध  सुघर व्यवहार ।
विद्या देती है विनय, शुद्ध सुघर व्यवहार ।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
राह तक रहे हैं नयना
राह तक रहे हैं नयना
Ashwani Kumar Jaiswal
I want my beauty to be my identity
I want my beauty to be my identity
Ankita Patel
*ओले (बाल कविता)*
*ओले (बाल कविता)*
Ravi Prakash
फूल फूल और फूल
फूल फूल और फूल
SATPAL CHAUHAN
धुएं से धुआं हुई हैं अब जिंदगी
धुएं से धुआं हुई हैं अब जिंदगी
Ram Krishan Rastogi
उसकी दहलीज पर
उसकी दहलीज पर
Satish Srijan
बुंदेली दोहा- चिलकत
बुंदेली दोहा- चिलकत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...