Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2024 · 1 min read

3157.*पूर्णिका*

3157.*पूर्णिका*
🌷 मसलों का निदान यहाँ🌷
22 212 22
मसलों का निदान यहाँ ।
सुंदर सा विधान यहाँ ।।
दुनिया का मजा ले हम ।
छोड़े सब निशान यहाँ ।।
भूखे अब नहीं मरते।
अन्नदाता किसान यहाँ ।।
जीवन महकते अपना।
प्यारा संविधान यहाँ ।।
कर ले मेहनत खेदू।
छू लो आसमान यहाँ ।।
………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
22-03-2024शुक्रवार

57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सच तो रोशनी का आना हैं
सच तो रोशनी का आना हैं
Neeraj Agarwal
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सत्य पर चलना बड़ा कठिन है
सत्य पर चलना बड़ा कठिन है
Udaya Narayan Singh
National Energy Conservation Day
National Energy Conservation Day
Tushar Jagawat
रक्षक या भक्षक
रक्षक या भक्षक
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
** अरमान से पहले **
** अरमान से पहले **
surenderpal vaidya
ಬನಾನ ಪೂರಿ
ಬನಾನ ಪೂರಿ
Venkatesh A S
नींद आज नाराज हो गई,
नींद आज नाराज हो गई,
Vindhya Prakash Mishra
मुहब्बत भी मिल जाती
मुहब्बत भी मिल जाती
Buddha Prakash
फकीर का बावरा मन
फकीर का बावरा मन
Dr. Upasana Pandey
*मरने का हर मन में डर है (हिंदी गजल)*
*मरने का हर मन में डर है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
लइका ल लगव नही जवान तै खाले मलाई
लइका ल लगव नही जवान तै खाले मलाई
Ranjeet kumar patre
तेरा ही हाथ है कोटा, मेरे जीवन की सफलता के पीछे
तेरा ही हाथ है कोटा, मेरे जीवन की सफलता के पीछे
gurudeenverma198
बाहर निकलने से डर रहे हैं लोग
बाहर निकलने से डर रहे हैं लोग
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
प्रेम के खातिर न जाने कितने ही टाइपिंग सीख गए,
प्रेम के खातिर न जाने कितने ही टाइपिंग सीख गए,
Anamika Tiwari 'annpurna '
अपनों में कभी कोई दूरी नहीं होती।
अपनों में कभी कोई दूरी नहीं होती।
लोकनाथ ताण्डेय ''मधुर''
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
अनिल कुमार
अनचाहे फूल
अनचाहे फूल
SATPAL CHAUHAN
मेरी सोच~
मेरी सोच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
"We are a generation where alcohol is turned into cold drink
पूर्वार्थ
Passion for life
Passion for life
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
दिल की बात
दिल की बात
Bodhisatva kastooriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
कवि दीपक बवेजा
जय माता दी ।
जय माता दी ।
Anil Mishra Prahari
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेमदास वसु सुरेखा
#मंगलकामनाएं
#मंगलकामनाएं
*प्रणय प्रभात*
I got forever addicted.
I got forever addicted.
Manisha Manjari
23/209. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/209. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...