Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

3136.*पूर्णिका*

3136.*पूर्णिका*
🌷 अपना दिन आया है🌷
22 22 22
अपना दिन आया है ।
सबका मन भाया है ।।
फूल खिले जग महके।
ये चमन सजाया है ।।
मंजिल है साथ यहाँ ।
वक्त हाथ मिलाया है ।।
यूं देख खुशनसीबी ।
हर्ष ही हर्ष छाया है ।।
दामन पकड़े खेदू ।
सच नाम कमाया है ।।
……..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
18-03-2024सोमवार

35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फितरत
फितरत
पूनम झा 'प्रथमा'
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
ओसमणी साहू 'ओश'
"जुबां पर"
Dr. Kishan tandon kranti
CUPID-STRUCK !
CUPID-STRUCK !
Ahtesham Ahmad
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
कवि रमेशराज
Love is a physical modern time.
Love is a physical modern time.
Neeraj Agarwal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गांव की गौरी
गांव की गौरी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
’वागर्थ’ अप्रैल, 2018 अंक में ’नई सदी में युवाओं की कविता’ पर साक्षात्कार / MUSAFIR BAITHA
’वागर्थ’ अप्रैल, 2018 अंक में ’नई सदी में युवाओं की कविता’ पर साक्षात्कार / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
चमचे और चिमटे जैसा स्कोप
चमचे और चिमटे जैसा स्कोप
*Author प्रणय प्रभात*
!! परदे हया के !!
!! परदे हया के !!
Chunnu Lal Gupta
कर्जमाफी
कर्जमाफी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Lonely is just a word which can't make you so,
Lonely is just a word which can't make you so,
Sukoon
परशुराम का परशु खरीदो,
परशुराम का परशु खरीदो,
Satish Srijan
*पिता*...
*पिता*...
Harminder Kaur
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
संगीत
संगीत
Vedha Singh
2323.पूर्णिका
2323.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Har Ghar Tiranga
Har Ghar Tiranga
Tushar Jagawat
कामयाब लोग,
कामयाब लोग,
नेताम आर सी
बह्र - 1222-1222-122 मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन फ़ऊलुन काफ़िया - आ रदीफ़ -है।
बह्र - 1222-1222-122 मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन फ़ऊलुन काफ़िया - आ रदीफ़ -है।
Neelam Sharma
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
_सुलेखा.
जनता का भरोसा
जनता का भरोसा
Shekhar Chandra Mitra
" मँगलमय नव-वर्ष-2024 "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Maine jab ijajat di
Maine jab ijajat di
Sakshi Tripathi
बिना मांगते ही खुदा से
बिना मांगते ही खुदा से
Shinde Poonam
अजनबी जैसा हमसे
अजनबी जैसा हमसे
Dr fauzia Naseem shad
खुले आम जो देश को लूटते हैं।
खुले आम जो देश को लूटते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
Paras Nath Jha
चलो बनाएं
चलो बनाएं
Sûrëkhâ
Loading...