Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2024 · 1 min read

3114.*पूर्णिका*

3114.*पूर्णिका*
🌷 मौसम का रंग पल पल बदलता रहता🌷
22 2212 2212 22
मौसम का रंग पल पल बदलता रहता ।
अपना मन देख चंचल मचलता रहता ।।
पाकर लगता अच्छा दामन यहाँ देखो।
नेकी करते बुरे दिन निकलता रहता।।
मंजिल अपनी डगर रखते नजर हरदम।
वक्त भी खोकर यहाँ हाथ मलता रहता।।
करते परवाह भी यूं जान से ज्यादा।
जीवन प्यारा जहाँ साथ चलता रहता ।।
रखते दिल में सभी बस हौसला खेदू।
सुंदर सपनें जहाँ रोज पलता रहता ।।
………..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
12-03-2024मंगलवार

33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रदूषन
प्रदूषन
Bodhisatva kastooriya
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सत्य कुमार प्रेमी
गर जानना चाहते हो
गर जानना चाहते हो
SATPAL CHAUHAN
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
#प्रातःवंदन
#प्रातःवंदन
*Author प्रणय प्रभात*
सूखी नहर
सूखी नहर
मनोज कर्ण
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
बुढ़िया काकी बन गई है स्टार
बुढ़िया काकी बन गई है स्टार
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
खाने पुराने
खाने पुराने
Sanjay ' शून्य'
କେବଳ ଗୋଟିଏ
କେବଳ ଗୋଟିଏ
Otteri Selvakumar
दिल चाहे कितने भी,
दिल चाहे कितने भी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
घूँघट के पार
घूँघट के पार
लक्ष्मी सिंह
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
Neelam Sharma
शाहजहां के ताजमहल के मजदूर।
शाहजहां के ताजमहल के मजदूर।
Rj Anand Prajapati
अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद
अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किसी मे
किसी मे
Dr fauzia Naseem shad
*झंडा (बाल कविता)*
*झंडा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मां की ममता जब रोती है
मां की ममता जब रोती है
Harminder Kaur
"" *सपनों की उड़ान* ""
सुनीलानंद महंत
वसंत के दोहे।
वसंत के दोहे।
Anil Mishra Prahari
सुस्ता लीजिये - दीपक नीलपदम्
सुस्ता लीजिये - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Ignorance is the best way to hurt someone .
Ignorance is the best way to hurt someone .
Sakshi Tripathi
पहाड़ी नदी सी
पहाड़ी नदी सी
Dr.Priya Soni Khare
आँखों का कोना एक बूँद से ढँका देखा  है मैंने
आँखों का कोना एक बूँद से ढँका देखा है मैंने
शिव प्रताप लोधी
अंतिम सत्य
अंतिम सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
Ajeeb hai ye duniya.......pahle to karona se l ladh rah
Ajeeb hai ye duniya.......pahle to karona se l ladh rah
shabina. Naaz
हां मैंने ख़ुद से दोस्ती की है
हां मैंने ख़ुद से दोस्ती की है
Sonam Puneet Dubey
2616.पूर्णिका
2616.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चेतावनी हिमालय की
चेतावनी हिमालय की
Dr.Pratibha Prakash
वक्त
वक्त
Jogendar singh
Loading...