Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2024 · 1 min read

3032.*पूर्णिका*

3032.*पूर्णिका*
🌷 दिल की आवाज सुना करते 🌷
22 22 22 22
दिल की आवाज सुना करते ।
दुनिया क्या आज गुना करते ।।
हालात सिखाती है जीना ।
आलम अंदाज चुना करते।।
पाते खोकर अपना सबकुछ ।
सपने सरताज बुना करते।।
यूं मिट जाते है गम सारे ।
खुशियां बेताज भुना करते।।
इतना नादान नहीं खेदू।
सुन रोज अल्फाज़ धुना करते।।
……….✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
20-02-2024मंगलवार

55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"प्यार की कहानी "
Pushpraj Anant
*नश्वर यह देह जगत् सारा, मन में यह बारंबार रहे (घनाक्षरी)*
*नश्वर यह देह जगत् सारा, मन में यह बारंबार रहे (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
They say,
They say, "Being in a relationship distracts you from your c
पूर्वार्थ
#विषय:- पुरूषोत्तम राम
#विषय:- पुरूषोत्तम राम
Pratibha Pandey
पीर
पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
3123.*पूर्णिका*
3123.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
sushil sarna
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
Jay Dewangan
हिन्दू मुस्लिम करता फिर रहा,अब तू क्यों गलियारे में।
हिन्दू मुस्लिम करता फिर रहा,अब तू क्यों गलियारे में।
शायर देव मेहरानियां
यह जो तुम बांधती हो पैरों में अपने काला धागा ,
यह जो तुम बांधती हो पैरों में अपने काला धागा ,
श्याम सिंह बिष्ट
🌹थम जा जिन्दगी🌹
🌹थम जा जिन्दगी🌹
Dr Shweta sood
!!! सदा रखें मन प्रसन्न !!!
!!! सदा रखें मन प्रसन्न !!!
जगदीश लववंशी
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
इंसान तो मैं भी हूं लेकिन मेरे व्यवहार और सस्कार
इंसान तो मैं भी हूं लेकिन मेरे व्यवहार और सस्कार
Ranjeet kumar patre
जिसकी तस्दीक चाँद करता है
जिसकी तस्दीक चाँद करता है
Shweta Soni
गुलाम
गुलाम
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"एक नाविक सा"
Dr. Kishan tandon kranti
#नया_भारत 😊😊
#नया_भारत 😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
ख़ाक हुए अरमान सभी,
ख़ाक हुए अरमान सभी,
Arvind trivedi
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जय श्री राम
जय श्री राम
Er.Navaneet R Shandily
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
वक्त तुम्हारा साथ न दे तो पीछे कदम हटाना ना
वक्त तुम्हारा साथ न दे तो पीछे कदम हटाना ना
VINOD CHAUHAN
राह तक रहे हैं नयना
राह तक रहे हैं नयना
Ashwani Kumar Jaiswal
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
यह गोकुल की गलियां,
यह गोकुल की गलियां,
कार्तिक नितिन शर्मा
मिलने के समय अक्सर ये दुविधा होती है
मिलने के समय अक्सर ये दुविधा होती है
Keshav kishor Kumar
रूठी हूं तुझसे
रूठी हूं तुझसे
Surinder blackpen
प्रिय विरह
प्रिय विरह
लक्ष्मी सिंह
कथनी और करनी में अंतर
कथनी और करनी में अंतर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...