Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

3002.*पूर्णिका*

3002.*पूर्णिका*
🌷 हाल अपना यूं बताने लगे
2122 212 212
हाल अपना यूं बताने लगे।
देख दुनिया डगमगाने लगे।।
पांव अंगद का यहाँ है नहीं ।
लोग कुछ डिंगे जमाने लगे।।
शान की तकदीर अपनी कहाँ ।
रोज फिर भी आजमाने लगे।।
है जमाना सितमगर आज तो ।
चमन में बस गुल खिलाने लगे।।
प्यार पाकर साथ खेदू जहाँ ।
जिंदगी भर फर्ज निभाने लगे।।
……..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
12-02-2024सोमवार

34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
manjula chauhan
मोहब्बत, हर किसी के साथ में नहीं होती
मोहब्बत, हर किसी के साथ में नहीं होती
Vishal babu (vishu)
नम आँखे
नम आँखे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
■ आज का विचार-
■ आज का विचार-
*Author प्रणय प्रभात*
दशावतार
दशावतार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"चक्र"
Dr. Kishan tandon kranti
वो तो शहर से आए थे
वो तो शहर से आए थे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
चांद के पार
चांद के पार
Shekhar Chandra Mitra
धुंध इतनी की खुद के
धुंध इतनी की खुद के
Atul "Krishn"
सफ़र
सफ़र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
You are painter
You are painter
Vandana maurya
Bahut fark h,
Bahut fark h,
Sakshi Tripathi
"मुशाफिर हूं "
Pushpraj Anant
हर स्नेह के प्रति, दिल में दुआएं रखना
हर स्नेह के प्रति, दिल में दुआएं रखना
Er.Navaneet R Shandily
✍️खाली और भरी जेबे...
✍️खाली और भरी जेबे...
'अशांत' शेखर
सच तो रंग होते हैं।
सच तो रंग होते हैं।
Neeraj Agarwal
आश किरण
आश किरण
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
फारवर्डेड लव मैसेज
फारवर्डेड लव मैसेज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मंद मंद बहती हवा
मंद मंद बहती हवा
Soni Gupta
23/153.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/153.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
'धोखा'
'धोखा'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सकारात्मक पुष्टि
सकारात्मक पुष्टि
पूर्वार्थ
परमपूज्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज
परमपूज्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज
मनोज कर्ण
फितरत अमिट जन एक गहना
फितरत अमिट जन एक गहना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
कवि रमेशराज
सिला नहीं मिलता
सिला नहीं मिलता
Dr fauzia Naseem shad
*चाँदी को मत मानिए, कभी स्वर्ण से हीन ( कुंडलिया )*
*चाँदी को मत मानिए, कभी स्वर्ण से हीन ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
वाराणसी की गलियां
वाराणसी की गलियां
PRATIK JANGID
करें उन शहीदों को शत शत नमन
करें उन शहीदों को शत शत नमन
Dr Archana Gupta
Loading...