Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2023 · 2 min read

(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !

कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !

प्रकृति जिसमें सुप्त था यह विश्व सारा ,
काल-दिक् सब अपरिभाषित गर्भ में थे !
दुःख औ ‘ सुख में न कोई भेद ही था
ज्ञान औ ‘ अज्ञान मिल विलयन बने थे !
देव, मानव, जंतु, औषधि का न था अस्तित्व कोई
न तो कोई ईश था, न धर्म या कि अधर्म ही थे |
कौन जाने प्रकृति के अंदर ही कोई पुरुष बैठा,
या कि अपनी पृथक सत्ता श्वेतवर्णा लिए बैठा,
एक चादर सी बुनी औ’ यामिनी पर डाल दी !
कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !

वह महाविस्फोट था या शिव-उमा की प्रेम लीला,
स्वयम्भुव ब्रह्मा के तप का या कि कोई सुफल था वह,
सातवें आकाश पर बैठे खुदा की सर्जना थी,
या कि जगती के पिता की एक इच्छाशक्ति थी वह,
तम सघन के पिण्ड में जो ईश-कण थे सघन पीड़ित
द्रव्य औ ‘ प्रतिद्रव्य बन, ब्रह्माण्ड में अब व्याप्त हैं वो,
भू, भुवः, स्वः हैं विनिर्मित, कृष्ण-गह्वर, श्वेत-गह्वर,
तारकों का पुंज है, मन्दाकिनी बहती है अविरल,
सूर्य, शशि, ध्रुव, सप्त ऋषि, ग्रह, राशिमण्डल घूमते हैं
ईश-जल के सिंधु में ब्रह्माण्ड अगणित झूमते हैं |

उर्वरा सौभाग्या पृथ्वी को भाष्कर वर मिला है
क्षितिज के ऊपर मगर वह अभी तक पहुँचा नहीं है
किन्तु अपने आगमन के कर दिए संकेत उसने
कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर | |

स्वरचित एवं मौलिक ( खंडकाव्य “अतिकर्ण” का प्रथम पद )
रचयिता :(सत्य) किशोर निगम

नोट :-
१- महाविस्फोट = Big Bang २. ईश-कण = Boson / God Particle
३. ईश-जल =Hypothetic ETHER ४. द्रव्य-प्रतिद्रव्य = Matter & Anti Matter
५. कृष्ण गह्वर = Black Holes ६. श्वेत गह्वर = White Dwarfs
७. मन्दाकिनी = Milky ways / आकाशगंगा ८. भू: =पृथ्वी ९. स्वः =स्वर्ग १०. भुवः = अंतरिक्ष
११- यामिनी = रात १२. कृष्णवर्णा = श्याम रंग की १३- श्वेत = सफ़ेद १४-काल-दिक्=Time & Space

Language: Hindi
1 Like · 268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kishore Nigam
View all
You may also like:
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
#विषय:- पुरूषोत्तम राम
#विषय:- पुरूषोत्तम राम
Pratibha Pandey
ज़िन्दगी तुमको ढूंढ ही लेगी
ज़िन्दगी तुमको ढूंढ ही लेगी
Dr fauzia Naseem shad
एकांत
एकांत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ये राज़ किस से कहू ,ये बात कैसे बताऊं
ये राज़ किस से कहू ,ये बात कैसे बताऊं
Sonu sugandh
इश्क़ का कुछ अलग ही फितूर था हम पर,
इश्क़ का कुछ अलग ही फितूर था हम पर,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
लोभी चाटे पापी के गाँ... कहावत / DR. MUSAFIR BAITHA
लोभी चाटे पापी के गाँ... कहावत / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मंजिल तक का संघर्ष
मंजिल तक का संघर्ष
Praveen Sain
*भगवान के नाम पर*
*भगवान के नाम पर*
Dushyant Kumar
रास्ते और राह ही तो होते है
रास्ते और राह ही तो होते है
Neeraj Agarwal
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
Ranjeet kumar patre
*बारिश आती (बाल कविता/ गीतिका)*
*बारिश आती (बाल कविता/ गीतिका)*
Ravi Prakash
खामोश आवाज़
खामोश आवाज़
Dr. Seema Varma
बनारस के घाटों पर रंग है चढ़ा,
बनारस के घाटों पर रंग है चढ़ा,
Sahil Ahmad
कोई ज्यादा पीड़ित है तो कोई थोड़ा
कोई ज्यादा पीड़ित है तो कोई थोड़ा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तुम्हारा हर लहज़ा, हर अंदाज़,
तुम्हारा हर लहज़ा, हर अंदाज़,
ओसमणी साहू 'ओश'
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
The_dk_poetry
बेटियों ने
बेटियों ने
ruby kumari
सम्राट कृष्णदेव राय
सम्राट कृष्णदेव राय
Ajay Shekhavat
राम आधार हैं
राम आधार हैं
Mamta Rani
मेरी …….
मेरी …….
Sangeeta Beniwal
बड़ा भोला बड़ा सज्जन हूँ दीवाना मगर ऐसा
बड़ा भोला बड़ा सज्जन हूँ दीवाना मगर ऐसा
आर.एस. 'प्रीतम'
सुधर जाओ, द्रोणाचार्य
सुधर जाओ, द्रोणाचार्य
Shekhar Chandra Mitra
आंखें
आंखें
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
जीवन में दिन चार मिलें है,
जीवन में दिन चार मिलें है,
Satish Srijan
3022.*पूर्णिका*
3022.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बापू के संजय
बापू के संजय
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐अज्ञात के प्रति-141💐
💐अज्ञात के प्रति-141💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कर्मगति
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
आगाज़-ए-नववर्ष
आगाज़-ए-नववर्ष
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Loading...