Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 1 min read

2999.*पूर्णिका*

2999.*पूर्णिका*
🌷 जैसे देश वैसे परिवेश
22 212 2221
जैसे देश वैसे परिवेश ।
देते मानवता का संदेश।।
दुनिया महकते सुंदर बाग ।
सच देती बना नियति नरेश।।
मौसम बदलते हरपल आज।
देता जिंदगी रोज दिनेश।।
सब गम भूल के खुशियां बांट ।
आती मंजिलें देख मनेश ।।
हरदम चमकते खेदू किस्मत।
बस यूँ नाचते करते ऐश।।
……….✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
11-02-2024रविवार

73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
न तोड़ दिल ये हमारा सहा न जाएगा
न तोड़ दिल ये हमारा सहा न जाएगा
Dr Archana Gupta
👌फिर हुआ साबित👌
👌फिर हुआ साबित👌
*प्रणय प्रभात*
Rakesh Yadav - Desert Fellow - निर्माण करना होगा
Rakesh Yadav - Desert Fellow - निर्माण करना होगा
Desert fellow Rakesh
दिवाली
दिवाली
नूरफातिमा खातून नूरी
*जादू – टोना : वैज्ञानिक समीकरण*
*जादू – टोना : वैज्ञानिक समीकरण*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोस्त कहता है मेरा खुद को तो
दोस्त कहता है मेरा खुद को तो
Seema gupta,Alwar
क्षणिकाएं
क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
प्रभु का प्राकट्य
प्रभु का प्राकट्य
Anamika Tiwari 'annpurna '
हिन्दीग़ज़ल में कितनी ग़ज़ल? -रमेशराज
हिन्दीग़ज़ल में कितनी ग़ज़ल? -रमेशराज
कवि रमेशराज
" ज़ख़्मीं पंख‌ "
Chunnu Lal Gupta
वास्तविक मौज
वास्तविक मौज
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बारिश की बूंदे
बारिश की बूंदे
Praveen Sain
*यदि हम खास होते तो तेरे पास होते*
*यदि हम खास होते तो तेरे पास होते*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
13. पुष्पों की क्यारी
13. पुष्पों की क्यारी
Rajeev Dutta
मन की डोर
मन की डोर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
*वृद्ध-जनों की सॉंसों से, सुरभित घर मंगल-धाम हैं (गीत)*
*वृद्ध-जनों की सॉंसों से, सुरभित घर मंगल-धाम हैं (गीत)*
Ravi Prakash
अफसाना किसी का
अफसाना किसी का
surenderpal vaidya
तितली रानी
तितली रानी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
डर - कहानी
डर - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिंदगी एक भंवर है
जिंदगी एक भंवर है
Harminder Kaur
ना अश्रु कोई गिर पाता है
ना अश्रु कोई गिर पाता है
Shweta Soni
छल करने की हुनर उनमें इस कदर थी ,
छल करने की हुनर उनमें इस कदर थी ,
Yogendra Chaturwedi
2555.पूर्णिका
2555.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
महाभारत एक अलग पहलू
महाभारत एक अलग पहलू
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"कारोबार"
Dr. Kishan tandon kranti
नहले पे दहला
नहले पे दहला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माँ तस्वीर नहीं, माँ तक़दीर है…
माँ तस्वीर नहीं, माँ तक़दीर है…
Anand Kumar
★ किताबें दीपक की★
★ किताबें दीपक की★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मेरे जज़्बात कुछ अलग हैं,
मेरे जज़्बात कुछ अलग हैं,
Sunil Maheshwari
Loading...