Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

2978.*पूर्णिका*

2978.*पूर्णिका*
🌷 कुछ चीजें अनमोल होती है
22 22 212 22
कुछ चीजें अनमोल होती है ।
उसमें ना तो झोल होती है ।।
रखते खुद पर हम यकीन जहाँ ।
सच मीठी बोल होती है ।।
हर कोई यूं चाहते मंजिल।
मेहनत की बस रोल होती है ।।
सोच नयी है बदलते फितरत ।
कीमत कितनी तोल होती है ।।
आज जमाना घूमते खेदू।
दुनिया देखो गोल होती है ।।
…….✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
04-02-2024रविवार

111 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़रीब
ग़रीब
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
जिसमें हर सांस
जिसमें हर सांस
Dr fauzia Naseem shad
“गणतंत्र दिवस”
“गणतंत्र दिवस”
पंकज कुमार कर्ण
मैं कितना अकेला था....!
मैं कितना अकेला था....!
भवेश
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
Manju Singh
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
ग़ज़ल:- तेरे सम्मान की ख़ातिर ग़ज़ल कहना पड़ेगी अब...
ग़ज़ल:- तेरे सम्मान की ख़ातिर ग़ज़ल कहना पड़ेगी अब...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
दोस्ती
दोस्ती
Mukesh Kumar Sonkar
#करना है, मतदान हमको#
#करना है, मतदान हमको#
Dushyant Kumar
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
■ लेखन मेरे लिए...
■ लेखन मेरे लिए...
*Author प्रणय प्रभात*
आदमियों की जीवन कहानी
आदमियों की जीवन कहानी
Rituraj shivem verma
A Dream In The Oceanfront
A Dream In The Oceanfront
Natasha Stephen
नववर्ष पर मुझको उम्मीद थी
नववर्ष पर मुझको उम्मीद थी
gurudeenverma198
*ऋषि (बाल कविता)*
*ऋषि (बाल कविता)*
Ravi Prakash
आज के दौर
आज के दौर
$úDhÁ MãÚ₹Yá
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"जुगाड़ तकनीकी"
Dr. Kishan tandon kranti
बचपन
बचपन
Dr. Seema Varma
ख़त्म होने जैसा
ख़त्म होने जैसा
Sangeeta Beniwal
दुनिया की आख़िरी उम्मीद हैं बुद्ध
दुनिया की आख़िरी उम्मीद हैं बुद्ध
Shekhar Chandra Mitra
बारिश के लिए तरस रहे
बारिश के लिए तरस रहे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
جستجو ءے عیش
جستجو ءے عیش
Ahtesham Ahmad
बुजुर्गो को हल्के में लेना छोड़ दें वो तो आपकी आँखों की भाषा
बुजुर्गो को हल्के में लेना छोड़ दें वो तो आपकी आँखों की भाषा
DrLakshman Jha Parimal
पानी
पानी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
Neelam Sharma
आया बसंत
आया बसंत
Seema gupta,Alwar
मतदान
मतदान
Dr Archana Gupta
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
Anand Kumar
ठहर ठहर ठहर जरा, अभी उड़ान बाकी हैं
ठहर ठहर ठहर जरा, अभी उड़ान बाकी हैं
Er.Navaneet R Shandily
Loading...