Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

2972.*पूर्णिका*

2972.*पूर्णिका*
🌷 परख जाते जो हमें 🌷
2122 212
परख जाते जो हमें ।
मान जाते वो हमें ।।
महक जाती जिंदगी ।
जान जाते तो हमें ।।
समझते कुछ नजरिया।
नजर आते वो हमें ।।
प्यार की दुनिया जहाँ ।
देख पाते जो हमें ।।
लो लिखे खेदू कथा।
बस मजा यूं वो हमें ।।
………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
02-02-2024शुक्रवार

77 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
Sahil Ahmad
हवन - दीपक नीलपदम्
हवन - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
Er. Sanjay Shrivastava
पहले क्या करना हमें,
पहले क्या करना हमें,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2435.पूर्णिका
2435.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हर रात की
हर रात की "स्याही"  एक सराय है
Atul "Krishn"
झाँका जो इंसान में,
झाँका जो इंसान में,
sushil sarna
अतीत
अतीत
Bodhisatva kastooriya
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
*
*"परछाई"*
Shashi kala vyas
😢आज का शेर😢
😢आज का शेर😢
*Author प्रणय प्रभात*
दुनिया बदल सकते थे जो
दुनिया बदल सकते थे जो
Shekhar Chandra Mitra
राधा और मुरली को भी छोड़ना पड़ता हैं?
राधा और मुरली को भी छोड़ना पड़ता हैं?
The_dk_poetry
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
VINOD CHAUHAN
उसके पलकों पे न जाने क्या जादू  हुआ,
उसके पलकों पे न जाने क्या जादू हुआ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बोझ हसरतों का - मुक्तक
बोझ हसरतों का - मुक्तक
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
* नाम रुकने का नहीं *
* नाम रुकने का नहीं *
surenderpal vaidya
हर रोज वहीं सब किस्से हैं
हर रोज वहीं सब किस्से हैं
Mahesh Tiwari 'Ayan'
वो काजल से धार लगाती है अपने नैनों की कटारों को ,,
वो काजल से धार लगाती है अपने नैनों की कटारों को ,,
Vishal babu (vishu)
*ड्राइंग-रूम में सजी सुंदर पुस्तकें (हास्य व्यंग्य)*
*ड्राइंग-रूम में सजी सुंदर पुस्तकें (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
Armano me sajaya rakha jisse,
Armano me sajaya rakha jisse,
Sakshi Tripathi
(13) हाँ, नींद हमें भी आती है !
(13) हाँ, नींद हमें भी आती है !
Kishore Nigam
शहरी हो जरूर तुम,
शहरी हो जरूर तुम,
Dr. Man Mohan Krishna
मैं एक खिलौना हूं...
मैं एक खिलौना हूं...
Naushaba Suriya
करो खुद पर यकीं
करो खुद पर यकीं
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
Jatashankar Prajapati
*****गणेश आये*****
*****गणेश आये*****
Kavita Chouhan
वक्त कब लगता है
वक्त कब लगता है
Surinder blackpen
"मन और मनोबल"
Dr. Kishan tandon kranti
ବିଶ୍ୱାସରେ ବିଷ
ବିଶ୍ୱାସରେ ବିଷ
Bidyadhar Mantry
Loading...