Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

2955.*पूर्णिका*

2955.*पूर्णिका*
🌷 मौसम देखो सर्द है 🌷
22 22 22
मौसम देखो सर्द है ।
आज बदन में दर्द है ।।
दुनिया कहती रहती ।
उड़ते हरदम गर्द है ।।
फिरते मन यार कहीं।
समझे बस सरदर्द है ।।
हर बाजी जीत यहाँ ।
हारे तो नामर्द है ।।
बदले जग हम खेदू।
जीवन भर जब जर्द है ।।
……..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
24-01-2024बुधवार

60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"शिलालेख "
Slok maurya "umang"
आखिर क्या है दुनिया
आखिर क्या है दुनिया
Dr. Kishan tandon kranti
3092.*पूर्णिका*
3092.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Chinkey Jain
विरह
विरह
नवीन जोशी 'नवल'
I hide my depression,
I hide my depression,
Vandana maurya
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
पूर्वार्थ
तेरा यूं मुकर जाना
तेरा यूं मुकर जाना
AJAY AMITABH SUMAN
पहले पता है चले की अपना कोन है....
पहले पता है चले की अपना कोन है....
कवि दीपक बवेजा
💐प्रेम कौतुक-212💐
💐प्रेम कौतुक-212💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शीर्षक:जय जय महाकाल
शीर्षक:जय जय महाकाल
Dr Manju Saini
हाई रे मेरी तोंद (हास्य कविता)
हाई रे मेरी तोंद (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
बसंती हवा
बसंती हवा
Arvina
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
*📌 पिन सारे कागज़ को*
*📌 पिन सारे कागज़ को*
Santosh Shrivastava
ज़िंदा होने का सबूत दो
ज़िंदा होने का सबूत दो
Shekhar Chandra Mitra
कब मेरे मालिक आएंगे!
कब मेरे मालिक आएंगे!
Kuldeep mishra (KD)
आश्रय
आश्रय
goutam shaw
वो वक्त कब आएगा
वो वक्त कब आएगा
Harminder Kaur
बेफिक्र अंदाज
बेफिक्र अंदाज
SHAMA PARVEEN
Compromisation is a good umbrella but it is a poor roof.
Compromisation is a good umbrella but it is a poor roof.
GOVIND UIKEY
Success is not final
Success is not final
Swati
संविधान से, ये देश चलता,
संविधान से, ये देश चलता,
SPK Sachin Lodhi
मंजिल
मंजिल
Soni Gupta
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
Paras Nath Jha
बेटा ! बड़े होकर क्या बनोगे ? (हास्य-व्यंग्य)*
बेटा ! बड़े होकर क्या बनोगे ? (हास्य-व्यंग्य)*
Ravi Prakash
जीवन अगर आसान नहीं
जीवन अगर आसान नहीं
Dr.Rashmi Mishra
प्रेम की चाहा
प्रेम की चाहा
RAKESH RAKESH
मांओं को
मांओं को
Shweta Soni
Loading...