Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2024 · 1 min read

2947.*पूर्णिका*

2947.*पूर्णिका*
🌷 कभी तुम आते हो 🌷
1222 22
कभी तुम आते हो ।
कभी तुम जाते हो ।।
चमन वीरान यहाँ ।
सजन महकाते हो ।।
रगों में प्रेम बहे।
खुशी दे जाते हो ।।
मिटे तम दुनिया से।
उजाला लाते हो ।।
बसे दिल में खेदू।
जग बदल जाते हो ।।
…………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
22-01-2024सोमवार

66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रात……!
रात……!
Sangeeta Beniwal
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
Dr. ADITYA BHARTI
सारे  ज़माने  बीत  गये
सारे ज़माने बीत गये
shabina. Naaz
होली मुबारक
होली मुबारक
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अफसाने
अफसाने
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
शहीदे आजम भगत सिंह की जीवन यात्रा
शहीदे आजम भगत सिंह की जीवन यात्रा
Ravi Yadav
आंख खोलो और देख लो
आंख खोलो और देख लो
Shekhar Chandra Mitra
*आए दिन त्योहार के, मस्ती और उमंग (कुंडलिया)*
*आए दिन त्योहार के, मस्ती और उमंग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
बेचारा प्रताड़ित पुरुष
बेचारा प्रताड़ित पुरुष
Manju Singh
धरा और हरियाली
धरा और हरियाली
Buddha Prakash
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
Radha jha
“दुमका दर्पण” (संस्मरण -प्राइमेरी स्कूल-1958)
“दुमका दर्पण” (संस्मरण -प्राइमेरी स्कूल-1958)
DrLakshman Jha Parimal
" नम पलकों की कोर "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
3206.*पूर्णिका*
3206.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चमकते चेहरों की मुस्कान में....,
चमकते चेहरों की मुस्कान में....,
कवि दीपक बवेजा
"कष्ट"
नेताम आर सी
मैं एक खिलौना हूं...
मैं एक खिलौना हूं...
Naushaba Suriya
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
काम क्रोध मद लोभ के,
काम क्रोध मद लोभ के,
sushil sarna
यारा ग़म नहीं अब किसी बात का।
यारा ग़म नहीं अब किसी बात का।
rajeev ranjan
देकर हुनर कलम का,
देकर हुनर कलम का,
Satish Srijan
■ आज का अनुरोध...
■ आज का अनुरोध...
*Author प्रणय प्रभात*
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत  माँगे ।
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत माँगे ।
Neelam Sharma
नारी का अस्तित्व
नारी का अस्तित्व
रेखा कापसे
अभिव्यक्ति का दुरुपयोग एक बहुत ही गंभीर और चिंता का विषय है। भाग - 06 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति का दुरुपयोग एक बहुत ही गंभीर और चिंता का विषय है। भाग - 06 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
पूर्वार्थ
"घर बनाने के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,
इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
जीत
जीत
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
Loading...