Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2024 · 1 min read

2942.*पूर्णिका*

2942.*पूर्णिका*
🌷 अपना तुझे मान लिया 🌷
2212 22 2
अपना तुझे मान लिया।
सच में मुझे जान लिया।।
दिल की यहाँ कौन सुने ।
यूं नैन पहचान लिया ।।
कांटे बने फूल वहाँ ।
सीना जहाँ तान लिया।।
ना छल कपट है मन में ।
लेकर छन्नी छान लिया ।।
करते वही सच खेदू।
जो हम कहे ठान लिया ।।
………..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
20-01-2024शनिवार

93 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सिर्फ बेटियां ही नहीं बेटे भी घर छोड़ जाते है😥😥
सिर्फ बेटियां ही नहीं बेटे भी घर छोड़ जाते है😥😥
पूर्वार्थ
रात तन्हा सी
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
उलझ नहीं पाते
उलझ नहीं पाते
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
2407.पूर्णिका
2407.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ध्यान-उपवास-साधना, स्व अवलोकन कार्य।
ध्यान-उपवास-साधना, स्व अवलोकन कार्य।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अगर आप हमारी मोहब्बत की कीमत लगाने जाएंगे,
अगर आप हमारी मोहब्बत की कीमत लगाने जाएंगे,
Kanchan Alok Malu
#व्यंग्य
#व्यंग्य
*प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी में वो भी इम्तिहान आता है,
ज़िंदगी में वो भी इम्तिहान आता है,
Vandna Thakur
एक चिंगारी ही काफी है शहर को जलाने के लिए
एक चिंगारी ही काफी है शहर को जलाने के लिए
कवि दीपक बवेजा
हिन्दु नववर्ष
हिन्दु नववर्ष
भरत कुमार सोलंकी
"परिपक्वता"
Dr Meenu Poonia
"मायने"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
भाईचारा
भाईचारा
Mukta Rashmi
आइसक्रीम के बहाने
आइसक्रीम के बहाने
Dr. Pradeep Kumar Sharma
परिणति
परिणति
Shyam Sundar Subramanian
मुक़द्दर में लिखे जख्म कभी भी नही सूखते
मुक़द्दर में लिखे जख्म कभी भी नही सूखते
Dr Manju Saini
मुख्तलिफ होते हैं ज़माने में किरदार सभी।
मुख्तलिफ होते हैं ज़माने में किरदार सभी।
Phool gufran
* हिन्दी को ही *
* हिन्दी को ही *
surenderpal vaidya
।।जन्मदिन की बधाइयाँ ।।
।।जन्मदिन की बधाइयाँ ।।
Shashi kala vyas
तमाशा जिंदगी का हुआ,
तमाशा जिंदगी का हुआ,
शेखर सिंह
कह्र ....
कह्र ....
sushil sarna
अहिल्या
अहिल्या
अनूप अम्बर
Beyond The Flaws
Beyond The Flaws
Vedha Singh
याद रखेंगे सतत चेतना, बनकर राष्ट्र-विभाजन को (मुक्तक)
याद रखेंगे सतत चेतना, बनकर राष्ट्र-विभाजन को (मुक्तक)
Ravi Prakash
दुनियां का सबसे मुश्किल काम है,
दुनियां का सबसे मुश्किल काम है,
Manoj Mahato
स्मरण और विस्मरण से परे शाश्वतता का संग हो
स्मरण और विस्मरण से परे शाश्वतता का संग हो
Manisha Manjari
मकर संक्रांति -
मकर संक्रांति -
Raju Gajbhiye
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
pravin sharma
Loading...