Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jan 2024 · 1 min read

2908.*पूर्णिका*

2908.*पूर्णिका*
🌷 ख्वाब सजाकर रखो🌷
22 2212
ख्वाब सजाकर रखो।
धार पजाकर रखो।।
महकेगी जिंदगी ।
मन महका कर रखो।।
सुख है तो दुख कहाँ ।
प्यार लुटाकर देखो।।
दुनिया साथी बने।
फरज निभाकर देखो।।
अपना खेदू कहे।
यार बनाकर देखो।।
………..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
06-01-2024शनिवार

84 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वर्तमान समय में रिश्तों की स्थिति पर एक टिप्पणी है। कवि कहता
वर्तमान समय में रिश्तों की स्थिति पर एक टिप्पणी है। कवि कहता
पूर्वार्थ
मेरा नसीब
मेरा नसीब
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"आशिकी"
Dr. Kishan tandon kranti
पाश्चात्यता की होड़
पाश्चात्यता की होड़
Mukesh Kumar Sonkar
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
*जीवित हैं तो लाभ यही है, प्रभु के गुण हम गाऍंगे (हिंदी गजल)
*जीवित हैं तो लाभ यही है, प्रभु के गुण हम गाऍंगे (हिंदी गजल)
Ravi Prakash
मंजिल
मंजिल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
।।
।।
*प्रणय प्रभात*
मेरे आदर्श मेरे पिता
मेरे आदर्श मेरे पिता
Dr. Man Mohan Krishna
राम-वन्दना
राम-वन्दना
विजय कुमार नामदेव
मुश्किलों से तो बहुत डर लिए अब ये भी करें,,,,
मुश्किलों से तो बहुत डर लिए अब ये भी करें,,,,
Shweta Soni
ओ माँ... पतित-पावनी....
ओ माँ... पतित-पावनी....
Santosh Soni
*** आशा ही वो जहाज है....!!! ***
*** आशा ही वो जहाज है....!!! ***
VEDANTA PATEL
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
Sunil Suman
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*एक चूहा*
*एक चूहा*
Ghanshyam Poddar
सफल हस्ती
सफल हस्ती
Praveen Sain
ओ दूर के मुसाफ़िर....
ओ दूर के मुसाफ़िर....
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
“तुम हो तो सब कुछ है”
“तुम हो तो सब कुछ है”
DrLakshman Jha Parimal
2554.पूर्णिका
2554.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मी ठू ( मैं हूँ ना )
मी ठू ( मैं हूँ ना )
Mahender Singh
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
विमला महरिया मौज
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
अनिल कुमार
आभ बसंती...!!!
आभ बसंती...!!!
Neelam Sharma
Janab hm log middle class log hai,
Janab hm log middle class log hai,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
दो जीवन
दो जीवन
Rituraj shivem verma
मां शारदे वंदना
मां शारदे वंदना
Neeraj Agarwal
*मै भारत देश आजाद हां*
*मै भारत देश आजाद हां*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नारी
नारी
Mamta Rani
देव दीपावली
देव दीपावली
Vedha Singh
Loading...