Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jan 2024 · 1 min read

2878.*पूर्णिका*

2878.*पूर्णिका*
🌷 नववर्ष आया🌷
22 22 22
ये नववर्ष आया है ।
यूं खुशियाँ लाया है ।।

सोच यहाँ बदलो तुम।
नव जग हँसाया है ।।

फूल खिले बगियां में ।
जीवन महकाया है ।।

साथी अपने हरदम ।
सच साथ निभाया है ।।

दिन भी सुंदर खेदू।
मन सूरज भाया है ।।
…..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
01-01-2024सोमवार

76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुबह होने को है साहब - सोने का टाइम हो रहा है
सुबह होने को है साहब - सोने का टाइम हो रहा है
Atul "Krishn"
तिरंगा
तिरंगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विषय
विषय
Rituraj shivem verma
जाने कहा गये वो लोग
जाने कहा गये वो लोग
Abasaheb Sarjerao Mhaske
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
DrLakshman Jha Parimal
उधार और मानवीयता पर स्वानुभव से कुछ बात, जज्बात / DR. MUSAFIR BAITHA
उधार और मानवीयता पर स्वानुभव से कुछ बात, जज्बात / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Biography Sauhard Shiromani Sant Shri Dr Saurabh
Biography Sauhard Shiromani Sant Shri Dr Saurabh
World News
होने को अब जीवन की है शाम।
होने को अब जीवन की है शाम।
Anil Mishra Prahari
रावण
रावण
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
भव्य भू भारती
भव्य भू भारती
लक्ष्मी सिंह
आज हालत है कैसी ये संसार की।
आज हालत है कैसी ये संसार की।
सत्य कुमार प्रेमी
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
ऋचा पाठक पंत
शेर
शेर
SHAMA PARVEEN
शुभ होली
शुभ होली
Dr Archana Gupta
मोहब्बत और मयकशी में
मोहब्बत और मयकशी में
शेखर सिंह
*नई राह पर नए कदम, लेकर चलने की चाह हो (हिंदी गजल)*
*नई राह पर नए कदम, लेकर चलने की चाह हो (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
जै जै अम्बे
जै जै अम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
★साथ तेरा★
★साथ तेरा★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
किसी नदी के मुहाने पर
किसी नदी के मुहाने पर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
■ सियासी व्यंग्य-
■ सियासी व्यंग्य-
*Author प्रणय प्रभात*
दृढ़ आत्मबल की दरकार
दृढ़ आत्मबल की दरकार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
उम्मीद
उम्मीद
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
💐प्रेम कौतुक-478💐
💐प्रेम कौतुक-478💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"जरा सोचो"
Dr. Kishan tandon kranti
2791. *पूर्णिका*
2791. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
Kumar lalit
Loading...