Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Nov 2023 · 1 min read

2736. *पूर्णिका*

2736. पूर्णिका
शब्द नहीं है पास मेरे
2122 2122
शब्द नहीं है पास मेरे।
आज खुश हूँ सांस मेरे।।
रोज तुम बस साथ देना।
तोड़ना न विश्वास मेरे।।
मंजिलें भी यूं मिलेगी।
जान दिल की आस मेरे।।
हाथ मेरा साथ तेरा ।
वक्त यहाँ अब खास मेरे।।
महकते सच फूल खेदू।
प्यार भी बिंदास मेरे।।
…………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
19-11-2023रविवार

163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अन्तर्मन को झांकती ये निगाहें
अन्तर्मन को झांकती ये निगाहें
Pramila sultan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गलत और सही
गलत और सही
Radhakishan R. Mundhra
छंद घनाक्षरी...
छंद घनाक्षरी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
***** सिंदूरी - किरदार ****
***** सिंदूरी - किरदार ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
सोच विभाजनकारी हो
सोच विभाजनकारी हो
*Author प्रणय प्रभात*
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
बुजुर्ग कहीं नहीं जाते ...( पितृ पक्ष अमावस्या विशेष )
बुजुर्ग कहीं नहीं जाते ...( पितृ पक्ष अमावस्या विशेष )
ओनिका सेतिया 'अनु '
"परोपकार के काज"
Dr. Kishan tandon kranti
Imagine you're busy with your study and work but someone wai
Imagine you're busy with your study and work but someone wai
पूर्वार्थ
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
VINOD CHAUHAN
मेरी माँ
मेरी माँ
Pooja Singh
रेल दुर्घटना
रेल दुर्घटना
Shekhar Chandra Mitra
मुस्कुरायें तो
मुस्कुरायें तो
sushil sarna
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
gurudeenverma198
I want my beauty to be my identity
I want my beauty to be my identity
Ankita Patel
Bikhari yado ke panno ki
Bikhari yado ke panno ki
Sakshi Tripathi
भारत देश
भारत देश
लक्ष्मी सिंह
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
Ranjeet kumar patre
समाज के बदलते स्वरूप में आप निवेशक, उत्पादक, वितरक, विक्रेता
समाज के बदलते स्वरूप में आप निवेशक, उत्पादक, वितरक, विक्रेता
Sanjay ' शून्य'
अजीब है भारत के लोग,
अजीब है भारत के लोग,
जय लगन कुमार हैप्पी
तन माटी का
तन माटी का
Neeraj Agarwal
आओ जाओ मेरी बाहों में,कुछ लम्हों के लिए
आओ जाओ मेरी बाहों में,कुछ लम्हों के लिए
Ram Krishan Rastogi
विश्वास का धागा
विश्वास का धागा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
या ख़ुदा पाँव में बे-शक मुझे छाले देना
या ख़ुदा पाँव में बे-शक मुझे छाले देना
Anis Shah
तेरे लिखे में आग लगे / MUSAFIR BAITHA
तेरे लिखे में आग लगे / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मन खामोश है
मन खामोश है
Surinder blackpen
नादान बनों
नादान बनों
Satish Srijan
हम रहें आजाद
हम रहें आजाद
surenderpal vaidya
Loading...