Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Nov 2023 · 1 min read

2735. *पूर्णिका*

2735. पूर्णिका
हमको तुम समझ गए
22 22 22
हमको तुम समझ गए ।
तुमको हम समझ गए ।।
पग चूमेगी मंजिल ।
चाहत क्या समझ गए ।।
दुनिया प्यारी-सी अब ।
जाने मन समझ गए ।।
है प्रेम विश्वास यहाँ ।
जीवनपथ समझ गए ।।
बांटे खुशियाँ खेदू ।
सारे राज समझ गए ।।
…………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
19-11-2023रविवार

196 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
योग करते जाओ
योग करते जाओ
Sandeep Pande
1...
1...
Kumud Srivastava
मां ने भेज है मामा के लिए प्यार भरा तोहफ़ा 🥰🥰🥰 �
मां ने भेज है मामा के लिए प्यार भरा तोहफ़ा 🥰🥰🥰 �
Swara Kumari arya
प्रथम किरण नव वर्ष की।
प्रथम किरण नव वर्ष की।
Vedha Singh
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
अनिल कुमार
बिछोह
बिछोह
Shaily
हमें रामायण
हमें रामायण
Dr.Rashmi Mishra
हँसते गाते हुए
हँसते गाते हुए
Shweta Soni
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
Vijay kumar Pandey
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कवि दीपक बवेजा
!! चुनौती !!
!! चुनौती !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
दोहे-मुट्ठी
दोहे-मुट्ठी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पुस्तक तो पुस्तक रहा, पाठक हुए महान।
पुस्तक तो पुस्तक रहा, पाठक हुए महान।
Manoj Mahato
सरयू
सरयू
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मिलेट/मोटा अनाज
मिलेट/मोटा अनाज
लक्ष्मी सिंह
घर के आंगन में
घर के आंगन में
Shivkumar Bilagrami
तूं मुझे एक वक्त बता दें....
तूं मुझे एक वक्त बता दें....
Keshav kishor Kumar
*श्री रामप्रकाश सर्राफ*
*श्री रामप्रकाश सर्राफ*
Ravi Prakash
क्या कहें कितना प्यार करते हैं
क्या कहें कितना प्यार करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
सच
सच
Neeraj Agarwal
11, मेरा वजूद
11, मेरा वजूद
Dr .Shweta sood 'Madhu'
*कभी मिटा नहीं पाओगे गाँधी के सम्मान को*
*कभी मिटा नहीं पाओगे गाँधी के सम्मान को*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,
इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,
Lokesh Sharma
कविता ....
कविता ....
sushil sarna
"आज का विचार"
Radhakishan R. Mundhra
अपने-अपने काम का, पीट रहे सब ढोल।
अपने-अपने काम का, पीट रहे सब ढोल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हे देश मेरे
हे देश मेरे
Satish Srijan
* ज्योति जगानी है *
* ज्योति जगानी है *
surenderpal vaidya
We all have our own unique paths,
We all have our own unique paths,
पूर्वार्थ
*तू भी जनता मैं भी जनता*
*तू भी जनता मैं भी जनता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...